ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
भाषा व्याकरण ३**रस*स्वाद भोज्य का सार है, गंध सुमन का सार।रस कविता का सार है, नीरस बेरस खार।।**रस महिमा*गो-रस मध-ुरस आम्र-रस,गन्ना रस कर पान।जौ-रस अंगूरी चढ़़े, सिर पर बच मतिमान।।बतरस, गपरस दे मजा, नेतागण अनजान।निंदारस में लीन हों, कभी नहीं गुणवान।।पी लबरस प्रेमी ह...
sanjiv verma salil
6
रचना - प्रति रचना:समुच्चय और आक्षेप अलंकारघनाक्षरी छंद*गुरु सक्सेना नरसिंहपुर मध्य प्रदेश*दुर्गा गणेश ब्रह्मा विष्णु महेशपांच देव मेरे भाग्य के सितारे चमकाइयेपांचों का भी जोर भाग्य चमकाने कम पड़ेरामकृष्ण जी को इस कार्य में लगाइए।रामकृष्ण जी के बाद भाग्य ना चमक सकेलग...
sanjiv verma salil
6
छंद सोरठा अलंकार यमक *आ समान जयघोष, आसमान तक गुँजायाआस मान संतोष, आ समा न कह कराया ***छंद सोरठा अलंकार श्लेष सूरज-नेता रोज, ऊँचाई पा तपाते झुलस रहे हैं लोग, कर पूजा सर झुकाते ***संवस १.४.२०१९http://divyanarmada.blogspot.in/
sanjiv verma salil
6
हूँभीरु,डरताहूँ पाप से. .न हो सकताभारत का नेताडरता हूँ आप से.*हैकौनजो रोके,मेरा मनमुझको टोंके,गलती सुधार.भयभीत मत हो.*जोकरेफायरदनादनबेबस पर.बहादुर नहींआतंकी है कायर.*हूँनहींसुरेश,न नरेश,आम आदमी.थोडा डरपोंककुछ बहादुर भी.*मैंदेखूँसपने.असाहसीकतई नहीं.बनाता उनकोहकीकत ह...
sanjiv verma salil
6
चित्र अलंकार : पिरामिड * है खरा सलिल नहीं खोटा इसके बिना बेमानी है लोटा मिटाता है पिपासा करे सृष्टि को संप्राण...
sanjiv verma salil
6
             वर्ण पिरामिड                      *                   री तू!              &nb...
sanjiv verma salil
6
 चित्र अलंकार http://divyanarmada.blogspot.in/
 पोस्ट लेवल : चित्र अलंकार
sanjiv verma salil
6
दोहा-दोहा अलंकार*होली हो ली अब नहीं, होती वैसी मीतजैसी होली प्रीत ने, खेली कर कर प्रीत*हुआ रंग में भंग जब, पड़ा भंग में रंगहोली की हड़बोंग है, हुरियारों के संग*आराधा चुप श्याम को, आ राधा कह श्यामभोर विभोर हुए लिपट, राधा लाल ललाम*बजी बाँसुरी बेसुरी, कान्हा दौड़े खीझ...
 पोस्ट लेवल : यमक दोहा अलंकार होली
sanjiv verma salil
6
कार्यशाला अलंकार बताइये *अजर अमर अक्षर अजित, अमित असित अनमोल। अतुल अगोचर अवनिपति, अंबरनाथ अडोल।। *ललित लता लश्कर लहक, लक्षण लहर ललाम। लिप्त लड़कपन लजीला, लतिका लगन लगाम।। संजीव १६-११-२०१९ http://divyanarmada.blogspot.in/
sanjiv verma salil
6
दोहा सलिला:अलंकारों के रंग-राखी के संगसंजीव 'सलिल'*राखी ने राखी सदा, बहनों की मर्याद.संकट में भाई सदा, पहलें आयें याद..राखी= पर्व, रखना.*राखी की मक्कारियाँ, राखी देख लजाय.आग लगे कलमुँही में, मुझसे सही न जाय..राखी= अभिनेत्री, रक्षा बंधन पर्व.*मधुरा खीर लिये हुए, बहि...
 पोस्ट लेवल : doha rakhi राखी दोहा अलंकार alankar