ब्लॉगसेतु

ज्योति  देहलीवाल
103
''ये दोस्ती, हम नहीं तोड़ेंगे, तोड़ेंगे दम मगर तेरा साथ ना छोड़ेंगे...'' शोले फिल्म के इस गाने को चरितार्थ किया हैं याकूब मोहम्मद ने। कोरोना के कारण जब सभी ओर से सिर्फ़ नकारात्मक ख़बरे देखने और सुनने मिल रही हैं, तब दिल को सुकून देती एक सकारात्मक ख़बर पढ़ी। याकूब ने बता द...
ज्योति  देहलीवाल
103
गांधी जी को ना सिर्फ भारत बल्कि दुनिया में भी विशेष ख्याति प्राप्त है। इस बात का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि दुनिया के महान वैज्ञानिकों में शुमार आइंस्टीन ने कहा था कि कुछ सालों बाद लोग इस बात पर यकीन नहीं करेंगे कि महात्मा गांधी जैसा इंसान कभी भी इस धरती...
ज्योति  देहलीवाल
103
भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश होने के बावजूद अक्सर लोग यह कहते सुने जा सकते हैं कि एक वोट से क्या होगा। हमारे देश में वोट देने के दिन लोगों को जरूरी काम याद आने लग जाते हैं। कई लोग तो वोट देने के दिन अवकाश का फायदा उठाकर परिवार के साथ पिकनिक मनाने चले जात...
ज्योति  देहलीवाल
103
भारत में महिलाओं को आशिर्वाद दिया जाता हैं कि दूधो नहाओं, पूतों फलों...सात बेटों की माँ हों!!! हर माता-पिता को बेटे की चाहत होती हैं और हर दादा-दादी को सोने की सीढ़ी चढ़ने के लिए पोता और बाद में पड़पोता ही चाहिए होता हैं। यह नारी का बहुत दुर्भाग्य ही हैं कि उसके दासता...
ज्योति  देहलीवाल
103
इस कलयुग में भी ज्यादातर इंसान कुछ अच्छा करना चाहते हैं ताकि समाज का कुछ भला हो, वे किसी के आँसू पोंछ सके। लेकिन जवानी में रोजी-रोटी कमाने से फ़ुरसत नहीं मिलती और बुढ़ापे में जर्जर काया एवं सीमित संसाधनों के कारण क्या करें ये इंसान समझ नहीं पाता! आइए, आज मैं आपको म...
ज्योति  देहलीवाल
103
यदि आपसे पुछा जाए कि प्रवचन देने वाले धार्मिक बाबाओं के नाम बताओं? तो मुझे पूरा-पूरा विश्वास हैं कि आप जल्द ही पांच-दस नाम गिना देंगे! लेकिन क्या आप किसी ‘मेडिसिन बाबा’ को जानते हैं? शायद आपका जबाब ना में ही होगा...तो आइए, जानते हैं ऐसे मेडिसिन बाबा के बारे में जो...
ज्योति  देहलीवाल
103
दोस्तों, जैसा कि आपकी सहेली की हमेशा कोशिश रहती हैं कि देश के असली हीरो से आप लोगों को मिलवाऊं। इसी कोशिश के अंतर्गत आज मीलिए, 19 साल की सीनू से जिन्होंने महिलाओं और लड़कियों को समाज की हैवानियत और बलात्कार से बचाने के लिए 'रेप प्रूफ पैंटी' बनाई हैं! उत्तर प्रदेश के...
ज्योति  देहलीवाल
103
हम अक्सर जरा सी मुश्किलों से ही हिम्मत हार जाते हैं। मुश्किलों से लड़ने की बजाय ईश्वर को और अपने आप को कोसने लगते हैं। हम अक्सर ये वाक्य दोहराते हैं कि यदि मेरे साथ ऐसा नहीं होता तो मैं ज़रुर ऐसा करती/करता...। लेकिन दुनिया में कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनके शब्दकोश में ऐस...
ज्योति  देहलीवाल
103
मुफ़्त का माल किसे अच्छा नहीं लगता? और वो भी सरकार खुद होकर बिना मांगे दे रहीं हो तो? आज के जमाने में, ऐसा कौन हैं जो आती हुई लक्ष्मी को ठुकराए! लेकिन क्या आपको पता हैं कि आज के जमाने में भी ऐसे स्वाभिमानी लोग हैं जो अपने स्वाभिमान के लिए आती हुई लक्ष्मी को ठुकराने...
ज्योति  देहलीवाल
103
अच्छाइयाँ और वो भी आज के जमाने की… हो ही नहीं सकता! आज तो सभी ओर अराजकता फैली हुई है। किसी को किसी से मतलब नहीं है। हरेक बंदा अपने-आप में मग्न है। हर रिश्ता जैसे स्वार्थ से ही बंधा हुआ है! चाहे वह भाई-बहन का रिश्ता हो या पति-पत्नी का, बाप-बेटे का हो या दोस्ती का। ह...