ब्लॉगसेतु

केवल राम
316
भारतीय जन जीवन को जब देखते हैं तो यहाँ पर शुभकामनाओं की बड़ी महता नजर आती है । सोने से लेकर जागने तक, शाम से सुबह तक, मृत्यु से जीवन तक, जड़ से चेतन तक, युद्ध से शांति तक, हार से जीत तक, प्रकृति से परमात्मा तक । शुभकामनाओं का यह सिलसिला अनवरत रूप से चलता र...
केवल राम
316
यह संसार एक मेला है , यहाँ जो भी आता है अपना समय बिता कर चला जाता है आने - जाने का यह क्रम आदि काल से चला आ रहा है . पूरी कायनात को जब हम देखते हैं तो यह ही महसूस होता है कि इस जहां में कुछ भी नित्य नहीं है , शाश्वत नहीं है . अगर कहीं  कुछ शाश्वत है तो उसे हम...
केवल राम
316
गतांक से आगे.....रचनाकर्म में स्पष्टता का अपना महत्व है. हम कुछ भी सृजन कर रहे हैं लेकिन जितनी हमारी विषय और विचार के प्रति स्पष्टता होगी उतना ही हमारा सृजन बेहतर होगा. कालजयी सृजन निश्चित रूप से विषय के प्रति स्पष्टता का ही परिणाम होता है . पूर्वाग्रहों और पक्षपात...
केवल राम
316
गतांक से आगे ........!अब तो यह निश्चित हो गया कि उपलब्धि को हासिल करने के लिए साधन से महत्वपूर्ण है साध्य . साधक का लक्ष्य क्या है ?  जिसे वह हासिल करना चाह रहा है . उसके पीछे उसका मंतव्य क्या है ? उसकी भावना क्या है ?  जिसकी भावना जैसी होगी उसे उसके कर...
केवल राम
316
कल दोपहर कुर्सी पर बैठा मैं किसी विचार में मगन था. अचानक मेरी नजर सामने खिल रहे फूलों के गमलों पर पड़ी. अनायास ही मेरे चेहरे पर रौनक छा गयी. लगभग 300  गमलों पर दृष्टिपात करने के बाद अचानक मेरी दृष्टि एक सुंदर से खिले फूल पर टिक गयी. बहुत देर निहारा मैंने उसे,...
केवल राम
316
जिन्हें हम याद करते हैं वह शरीर रूप में विद्यमान नहीं , लेकिन उनका अनुभव हमारे पास है . उन्होंने जो महसूस करने के बाद अभिव्यक्त किया वह हमारे पास है और जब तक वह हमारे पास है तब तक उनका अस्तित्व बना रहा है , और बना रहेगा .   गत अंक से आगे .........!आखिर क्...
केवल राम
316
इस प्रकृति को जब भी भीतर की आँख से देखता हूँ तो बहुत कुछ अप्रत्याशित सा महसूस होता है , और जब इसके करीब जाकर इसको अपने पास महसूस करता हूँ तो भाव विभोर हो जाता हूँ . यह एक बार नहीं बल्कि कई बार होता है . इस अनुभूति का कोई निश्चित क्रम नहीं है . कोई समय नहीं है और को...
केवल राम
316
समय : सोचता हूँ तू किसी दिन अगर ठहर जाता तो मेरी सांसों का यह सफ़र भी थोड़ी देर के लिए विश्राम पाता और मैं करता तुझसे बातें तेरे साथ बिताये लम्हों की , और उस वक़्त मुझे लगता तू कहीं नहीं है और मैं भी कहीं नहीं . हम दोनों की एकात्मकता यह स्थापित करती कि जीवन और जग...
केवल राम
316
जहाँ तक व्यक्ति को धन की जरुरत जीवन जीने के लिए थी , लेकिन आज वह अपनी लालसाओं की पूर्ति के लिए धन का उपयोग कर रहा है और इस बात को भूल गया है कि " तृष्णा ना जीर्णः, वयमेव जीर्णः "गतांक से आगे .........!हमारी तृष्णा जीर्ण नहीं हो रही है बल्कि हम ही जीर्ण होते जा रहे...
केवल राम
316
गतांक से आगे ......!भारतीय जीवन सन्दर्भों को जब हम गहराई से विश्लेशित करते हैं तो हम पाते हैं कि यहाँ जीवन के विषय में बहुत व्यापक और गहन विचार किया गया है . जीवन की सार्थकता को निर्धारित करने के लिए वर्षों से ऋषि मुनियों ने गहन चिंतन किया और जो भी निष्कर्ष निकला उ...