ब्लॉगसेतु

Bhavana Lalwani
360
वो झील के किनारे बैठी थी. उसके पैर एडियों  तक पानी में डूबे हुए  थे और  उसके लम्बे रेशमी  बाल  उसकी पीठ पर बिखरे थे और ज़मीन को छू रहे थे. उसने एक लम्बा सा  फ्रौक पहन रखा था जिस पर नीले, सफ़ेद और पीले रंग ऐसे लग रहे थे जैसे किसी चित्रक...
zeashan zaidi
154
मारिसन जब इं-राफेल और वैशाली को लेकर उस मज़दूर के पास पहुंचा तो वह खुदाई की मशीन के पास मौजूद मशीन आपरेटर की मदद कर रहा था। मारिसन ने मशीन आपरेटर से मशीन रोकने के लिये कहा। मशीन रुक गयी और उस मज़दूर ने अपना चेहरा उनकी तरफ घुमाया। ‘‘यही है! यही है मेरे पति अशोक...
zeashan zaidi
154
शहर का निर्माण कार्य आरम्भ हो गया था। समुन्द्र से पानी लाने के लिये पाइप लाइन बिछायी जा रही थी। इस काम में हज़ारों मज़दूर लगाये गये थे। जो आसपास के देशों के स्थानीय निवासी थे।एक ए-सी- टेन्ट में अशोक का निवास था। बाहर हद से ज्यादा गर्मी थी। कभी कभी उसे काम की प...
zeashan zaidi
154
जब उसकी आँख खुली तो पूरा बदन पसीने में डूबा हुआ था। और हलक प्यास से सूख रही थी। उसने उठकर फ्रिज खोला और ठण्डे पानी की पूरी बोतल चढ़ा गया। फिर वह उस सपने के बारे में सोचने लगा जो उसने अभी अभी देखा था। बहुत भयानक सपना था वह। ‘‘क्या बात है, वहाँ खड़े क्या सोच रहे...
girish billore
716
प्रतिष्ठित वेब साईट हिंदयुग्म के पोड्कास्ट पेज़ पर आभास जोशी के स्वरों में पिरोया लोकप्रिय एलबम बावरे-फ़कीरा की इन्टरनेट लांचिंग दिनांक १५ अक्टूबर को की गई.  स्मरण हो कि आज के दिन साईनाथ महाराज ने अपनी जीवन यात्रा को विराम दिया था.आज ही हिंदयुग्म द्वारा स्...
girish billore
101
..............................
संजीव तिवारी
78
पिछले दिनों ब्लॉगजगत को आभासी दुनिया करार देने के लिये काफी जद्दोजहद की गई. तब तात्कालीन परिस्थितियों एवं विषय को देखते हुए हम इससे असहमत थे. इतने दिनों हिन्दी ब्लॉग में हासिये  मे ही सही, रमें  और जमें रहने से हमारा अनुभव भी यही था. इसी आधार पर हमनें पूर...
 पोस्ट लेवल : आभासी दुनिया
संजीव तिवारी
78
महफूज रेस्तरॉं से निकलते हुए हमने वहां के मैनैजमैंट से पूछा कि इतने अच्छे और मशहूर रेस्तरॉं का नाम किसी साहित्यकार के नाम से कैसे कर दिया गया क्योंकि हमारे देश में तो साहित्यकारों के नाम से सार्वजनिक व सरकारी इमारतें होती है जिसकी पूछ परख साल में दो बार जयंती और पु...
संजीव तिवारी
78
पिछले दिनों ब्लॉग जगत में अदा जी के घर के चित्रों को ब्लॉग में प्रस्तुत करने के संबंध में प्रकाशित एक पोस्ट पर सबने दांतो तले उंगली दबा ली थी और जिस प्रकार पाबला जी ने कनाडा यात्रा की वैसी यात्रा करने के लिए अनेक ब्लॉगर उत्सुक थे. कल पाबला जी हमारे पास आये तो हमने...
girish billore
716
प्रतिष्ठित वेब साईट हिंदयुग्म के पोड्कास्ट पेज़ पर आभास जोशी के स्वरों में पिरोया लोकप्रिय एलबम बावरे-फ़कीरा की इन्टरनेट लांचिंग दिनांक १५ अक्टूबर को की गई.  स्मरण हो कि आज के दिन साईनाथ महाराज ने अपनी जीवन यात्रा को विराम दिया था.आज ही हिंदयुग्म द्वारा स्...