ब्लॉगसेतु

ऋता शेखर 'मधु'
118
आत्महत्या...क्या स्वयं को खत्म कर लेने वाला ही जिम्मेवार या कोई और भी है जिम्मेवार?आत्महत्या को कायरता कहकर आत्महत्या के कारणों को नज़रअंदाज कर देना बड़ी भूल है| एक होती है शरीर की हत्या जिसके लिए मारने वाले को अपराधी घोषित किया जाता है| उससे भी भयंकर होती है...
 पोस्ट लेवल : आलेख
Bharat Tiwari
23
इरफ़ान ख़ान पर लिखा, विविध भारती के उद्घोषक, फिल्मों के गहरे जानकार, लेखक यूनस ख़ान का यह लेख इरफ़ान ख़ान की जीवनी तो नहीं है, लेकिन अब तक पढ़ी इरफ़ान ख़ान की प्रोफाइल में सर्वश्रेष्ठ है। ... भरत एस तिवारी/शब्दांकन संपादकइरफ़ान ख़ान, गहरी आंखों और स...
parasmani agrawal konch
338
सियासत का ऊॅट वक्त और परिस्थितियों की चाल के अनुसार खुद की करवटों को बदलता है और जिस व्यक्ति ने सियाशी हवाओं के रूख को भांपते हुए विपक्ष की कमजोरी को आधार बना अपने पांसे समय पर फेंक दिया राजनीति में वही मुकद्दर का सिंकदर बन जाता है। कोरोना संकट से गुजर रहे देश में...
 पोस्ट लेवल : आलेख #हमतोलिखेंगे
देवेन्द्र पाण्डेय
116
एक बनारसी कवि ने दो बनारसी कवियों का एक मजेदार किंतु सत्य किस्सा सुनाया। जिसे मैं अपने शब्दों में प्रस्तुत कर रहा हूँ। दोनो कवि मुफलिसी में जीवन गुजारते लेकिन कविता के लिए जान देते। एक दिन एक कवि ने रात्रि में 10 बजे दूसरे कवि का दरवाजा खटखटाया...कवि जी हैं? कवि जी...
देवेन्द्र पाण्डेय
116
औरंगाबाद की घटना सुनी तो पहले लगा, कहीं चलते-चलते हारकर सामूहिक आत्महत्या तो नहीं कर लिया मजदूरों ने! फिर पता चला नहीं, थककर चूर हो गए थे और सो गए थे रेलवे ट्रैक पर। इस घटना से नींद की गहराई का पता चलता है। कितनी गहरी हो सकती है नींद! रेलवे ट्रैक पर भी आ सकती है !...
 पोस्ट लेवल : आलेख मजदूर
रविशंकर श्रीवास्तव
5
आपके सहयोग के लिए धन्यवाद व आभार. अपरिहार्य कारणों से रचनाकार में  रचनाओं का प्रकाशन, अगली सूचना तक, अनिश्चित काल के लिए स्थगित है. अतः आग्रह है कि प्रकाशनार्थ रचनाएँ न भेजें.
 पोस्ट लेवल : आलेख
रविशंकर श्रीवास्तव
5
कुमारी पिंकी प्रथम    मांतुम्हें कहीं अन्यत्र खोजने  ,         की आवश्यकता नहीं ।  दुर्लभ , दुर्गम होते हुए, हर कण में सुलभ हो। तुम्हारी बदौलत दुनिया में हूं।तुम्हारी अनुपम छवि:-गीता के श्लोकों में,कुरान क...
 पोस्ट लेवल : आलेख कविता
ऋता शेखर 'मधु'
118
सेल्फ़ डिपेंडेंट...अर्थात आत्मनिर्भर होना|परावलंबन का संबंध अधिकतर स्त्रियों और सेवक वर्ग से जुड़ा होता है|इस सेल्फ़ डिपेंडेंट की रेंज क्या है, इसे कोरोना काल ने सुस्पष्ट कर दिया है| सेल्फ़ डिपेंडेंट...कब कब ?१.शारीरिक रूप से२.आर्थिक रूप से३.मानसिक रूप से&nbsp...
 पोस्ट लेवल : आलेख सामयिक लॉकडाउन
ऋता शेखर 'मधु'
118
     आज 14 अप्रैल 2020 को लॉक डाउन के 21 दिन पूरे हो चुके हैं। देश के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी इस भयावह कोरोना काल में हरसम्भव जनता के सम्पर्क में रहे। आज सुबह 10 बजे उन्होंने तीसरी बार जनता को सम्बोधित किया। लॉक डाउन की अवधि 3 मई तक के...
 पोस्ट लेवल : आलेख सामयिक लॉकडाउन
ऋता शेखर 'मधु'
118
पूरे विश्व के लिए अभी बहुत कठिन दौर है| हमारा देश कोरोना वायरस के चपेट में आकर लॉकडाउन में चल रहा है| कोरोना वायरस श्वसन तंत्रिका संबंधी रोग है| यह लाइलाज तो नहीं पर बहुत ही खतरनाक है| इसका संक्रमण इतनी तेजी से फैल रहा कि महामारी का रूप धारण कर चुका है| हर तरह की य...
 पोस्ट लेवल : आलेख