ज़रा-ज़रा इंसाँ हो जाओ मन को सुकून मिलना तय है, अगर देवता बन बैठे तो हरदम दोष निकलना तय है । सूरज गिरा क्षितिज के नीचे   सुबह सबेरे फिर चमकेगा, चलने वालों का ही गिरना उठना फिर से चलना तय है । जब अतीत की गहराई से   यादों का लावा-सा निकल...