ब्लॉगसेतु

Tejas Poonia
377
किताब - रिस्क एट इश्क लेखिका - इरा टाकप्रकाशक - भारत पुस्तक भंडार विधा - प्रेमपरक उपन्यास छपा हुआ मूल्य - 295समीक्षक - तेजस पूनिया प्रेम को लेकर आदिकाल और मध्यकाल से ही लेखन चलता आ रहा है। इस संसार में प्रेम ही ऐसी चीज है जो कभी मिटाई नहीं जा सक...
Akhilesh Karn
267
गायक :  ओम झा, हन्नी बी, एलबम : बलम जी लव यूगीतकार: प्रेमांशू सिंहसंगीतकार :  ओम झाम्यूजिक कंपनी :  वर्ल्ड वाइड रिकॉर्डइश्क इश्क इश्क इश्कलागी लागी रे लगन कैसी लागी रे सैंया बेदरदाऐसी भेद की लत है लगाई रे सैंया बेदरदाएक रंग चढा हलका हलकाजैसे जाम...
sanjiv verma salil
7
मुक्तक रंग इश्क के अनगिनत, जैसा चाहे देखलेखपाल न रख सके लेकिन उनका लेखजी एस टी भी लग नहीं सकता, पटको शीश -खींच न लछमन भी सकें, इस पर कोई रेख*http://divyanarmada.blogspot.in/
 पोस्ट लेवल : ishq muktak इश्क मुक्तक
Aparna  Bajpai
269
मुकेश कुमार
426
Shakeel Samar रचित "शर्तिया ISHQ" के बारे में कुछ भी लिखने से पहले, लेखक के डिस्क्लेमर को कोट करना चाहूंगा - "......मेरी इस किताब को हिंदी साहित्य की कोटि में रखने की कोशिश न की जाये....... मैं जो लिखता हूँ उसे पॉपुलर फिक्शन कहते हैं"तो अंजुमन प्रकाशन के इस पॉपुलर...
sanjiv verma salil
7
मुक्तकमाँ तो माँ ही होती है सपने बच्चों में बोती है जाकर भी कब जा पाती है?खो जाती मगर न खोती है. *इश्क क्यों हुस्न से हुआ करता?इश्क को रश्क क्यों हुआ करता?इश्क की मुश्क जरूरी क्यों है?इश्क क्यों इश्क की दुआ करता?१४-५-२०१७ *मुक्तक सलिला :संजीव.हमसे छिपते भी नहीं, स...
मुकेश कुमार
172
सुखी टहनियों के बीच सेललछौं प्रदीप्त प्रकाश के साथलजाती भोर कोओढ़ा कर पीला आँचलचमकती सूरज सी तुममैं भी हूँ बेशक बहुत दूरपर इस सुबह केलाल इश्क नेकर दिया मजबूरतुम्हे निहारने को !!_______________सुनो ! चमकते रहना !
विजय राजबली माथुर
73
****** *********************************************फेसबुक पर प्राप्त टिप्पणियाँ : 
विजय कुमार सप्पत्ति
263
नज़्म :मुझ से तुझ तक एक पुलिया हैशब्दों का,नज्मो का,किस्सों का,औरआंसुओ का .............और हां; बीच में बहता एक जलता दरिया है इस दुनिया का !!!!© विजय