ब्लॉगसेतु

शिवम् मिश्रा
30
 मधुबाला (जन्म: 14 फरवरी, 1933, दिल्ली - निधन: 23 फरवरी, 1969, बंबई) भारतीय हिन्दी फ़िल्मों की एक अभिनेत्री थी। उनके अभिनय में एक आदर्श भारतीय नारी को देखा जा सकता है।चेहरे द्वारा भावाभियक्ति तथा नज़ाक़त उनकी प्रमुख विशेषता है। उनके अभिनय प्रतिभा,व्...
शिवम् मिश्रा
30
 " कोई इश्क़ का नाम ले ... और अनारकली का जिक्र न हो ... यह मुमकिन नहीं "  और आज वैसे भी इश्क़ का दिन है ... १४ फरवरी  मधुबाला जी की जंयती   मधुबाला (जन्म: 14 फरवरी, 1933, दिल्ली - निधन: 23 फरवरी, 1969, बंबई) भारतीय हिन्दी फ़...
शिवम् मिश्रा
30
 मधुबाला (जन्म: 14 फरवरी, 1933, दिल्ली - निधन: 23 फरवरी, 1969, बंबई) भारतीय हिन्दी फ़िल्मों की एक अभिनेत्री थी। उनके अभिनय में एक आदर्श भारतीय नारी को देखा जा सकता है।चेहरे द्वारा भावाभियक्ति तथा नज़ाक़त उनकी प्रमुख विशेषता है। उनके अभिनय प्रतिभा,व्यक्तित...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
316
इश्क़ की दुनिया मेंढलते-ढलते रुक जाती है रातहुक़ूमत दिल पर करते हैं जज़्बातज़ुल्फ़ के साये में होती  है शामसाहब-ए-यार  के  कूचे से गुज़रे  तो हुए बदनामसाथ निभाने का पयामवफ़ा का हसीं पैग़ामआँख हो जाती है जुबां हाल-ए-दिल सुनाने कोक़ुर्बान होती है शमा...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
316
अल्फ़ाज़ है कुछ माज़ी के दिल कभी भूलता ही नहींनये-पुराने घाव भर गए सारे  दर्द-ओ-ग़म राह ढूँढ़ता ही नहीं। उम्र भर साथ चलने का वादा है अभी से लड़खड़ा गए हो क्यों ?प्यास बुझती कहां है इश्क़ में साहिल पे आज आ गए हो क्यों ?गर  न  हों&nbsp...
शिवम् मिश्रा
30
 मधुबाला (जन्म: 14 फरवरी, 1933, दिल्ली - निधन: 23 फरवरी, 1969, बंबई) भारतीय हिन्दी फ़िल्मों की एक अभिनेत्री थी। उनके अभिनय में एक आदर्श भारतीय नारी को देखा जा सकता है।चेहरे द्वारा भावाभियक्ति तथा नज़ाक़त उनकी प्रमुख विशेषता है। उनके अभिनय प्रतिभा,व्यक्तित...
शिवम् मिश्रा
30
 " कोई इश्क़ का नाम ले ... और अनारकली का जिक्र न हो ... यह मुमकिन नहीं " और आज वैसे भी इश्क़ का दिन है ...१४ फरवरी मधुबाला जी की जंयती   मधुबाला (जन्म: 14 फरवरी, 1933, दिल्ली - निधन: 23 फरवरी, 1969, बंबई) भारतीय हिन्दी फ़िल्मों की एक अभिनेत्री...
शिवम् मिश्रा
30
 " कोई इश्क़ का नाम ले ... और अनारकली का जिक्र न हो ... यह मुमकिन नहीं " और आज वैसे भी इश्क़ का दिन है ...१४ फरवरी मधुबाला जी की जंयती   मधुबाला (जन्म: 14 फरवरी, 1933, दिल्ली - निधन: 23 फरवरी, 1969, बंबई) भारतीय हिन्दी फ़िल्मों की एक अभिनेत्री थ...
Shahid Ajnabi
439
देखा जाए तो हर दिन मुहब्बत का है, जिस दिन में मुहब्बत नहीं वो दिन कैसा ? शायद हम और आप ऐसी दुनिया की कल्पना भी नहीं कर सकते , जहाँ मुहब्बत न हो, प्यार न हो, अहसास न हों, संवेदनाएं न हों. और अगर एक दिन मुक़र्रर कर भी दिया प्यार के लिए तो ठीक सही. अगर एक ख़ास दिन के बह...
Kailash Sharma
171
इश्क़ को ज़ब से बहाने आ गए,दर्द भी अब आज़माने आ गए।दर्द की रफ़्तार कुछ धीमी हुई,और भी गम आज़माने आ गए।कौन कहता है अकेला हूँ यहाँ,याद भी हैं साथ देने आ गए।रात भर थे साथ में आंसू मिरे,सामने तेरे छुपाने आ गए।हाथ में जब हाथ था आने लगा,बीच में फिर से ज़माने आ गए।  &...