ब्लॉगसेतु

मधुलिका पटेल
538
सरहदों से तुम्हारा आनापलाश के फूल की तरह वहीँ तो खिलते हैं उमीदों की तपती दोपहर में तुम आओगे तो न बहुत दिनों से कह तो रहे हो पर आने के तुम्हारे संदेशों में इंतज़ार मुझे हराता नहीं है वो ख़त्म होती ख़ुशी को रोज़ मैं खींच...
सुनीता शानू
393
तुम जब भी उदास होते हो मै उन वजहों को खोजने लगती हूँ जो बन जाती है तुम्हारी उदासी की वजह और उन ख़ूबसूरत पलों को याद करती हूँ जो मेरी उदासी के समयतुमने पैदा किये थेमुझे हँसाने व रिझाने के लियेकाश! कभी तो मिटेंगे एक साथ ये उदासी के काले बादलज...
 पोस्ट लेवल : उदासी कविता रिश्ते
Bhavna  Pathak
82
क्यों उदास बैठे हो ऐसेक्यों छाया इतना सन्नाटाटूट गया तुमसे कुछ गिरकरपड़ा गाल पर मां का चांटाहोमवर्क कर पाए ना जबटीचर ने स्कूल में डांटाहल्का  हो जाता है हर दुखमित्रों से यदि उसको बांटाआओ चलो पार्क में खेलेंकहो उदासी को अब टाटा-----------  शिवशंकर
सुशील बाकलीवाल
325
          जैसा कि तस्वीर मे दिखाया गया है उस से आपको हाथ की उंगलियों के नाम पता चल गये होंगे ।सबसे पहले तर्जनी की बात...          अगर यह उंगली सीधी है, कहीं से भी टेडापन नहीं...
Shachinder Arya
154
अभी जब से सो कर उठा हूँ, तब से पता नहीं किन अजीब-अजीब से ख़यालों से भर गया हूँ। कैसे इन विकृत से बेढंगे सवालों ने मुझे घेर लिया। ऐसा क्यों होता है, हम न चाहते हुए भी लिखने को मज़बूर हो जाते हैं। कहाँ खाली बैठा रहता। कुछ सोचता। कुछ बैठा रहता। सोचता भी शायद यही सब। या...
Shachinder Arya
154
वह एकदम शांत क़िस्म की दीवारों वाला घर था। छिपकली भी आहिस्ते से उनसे चिपकी रहती और कोई जान भी न पाता। जाले दरवाज़े के पीछे छिपकर सालों से वहीं बने हुए थे। पलस्तर धीरे-धीरे अम्मा की अधीर आँखों की तरह उखड़ रहा था। सफ़ेदी को सीलन के साथ पपड़ी बने ज़माना बीत गया, किसी को को...
Shachinder Arya
154
हम कभी नहीं सोचते, पर हो जाते हैं। कितने दोस्त बन जाते, इसी सब में। पर फ़िर भी हम तो दोस्त उसी के बनना चाहते। मन मार लेते। सब साथ दिखते। पर हम उसके साथ होना चाहते। कुछ न बोलते हुए भी सब बोल जाते। पर वह कहीं न होती। हम कहीं न होते। जगहें वहीं रह जातीं। हम हम नहीं रह...
Shachinder Arya
154
हज़रत निज़ामुद्दीन घंटा भर पहले पहुँचकर वह क्या-क्या कर सकता है, इसकी लिस्ट वह कई बार बनाकर मिटा चुका था। हर डूबती शाम, उसका दिल भी डूब जाता। जिस कमरे पर वह साल दो हज़ार दो से रह रहा था, उसे अपने ही गाँव के एक लड़के को दिलाकर एक ठिकाना बचाए रखने की ज़िद काम नहीं आई। हर...
Shachinder Arya
154
पता नहीं कभी-कभी क्या होता है, हम चाहकर भी नहीं समझ पाते। शायद तभी उन बीत गए दिनों में लौट कर उन्हें दुरुस्त करने की ज़िद से भर जाते होंगे। अगर ऐसा न होता तब मुझे भी हलफ़नामे की तरह दोबारा उन बातों पर गौर करने की ज़रूरत नहीं पड़ती। सोचता हूँ, अगर मेरे मन में वह ख़याल दो...
Shachinder Arya
154
वर्माजी देखने में साधारण से मास्टरजी लगते हैं। जैसे विनोद कुमार शुक्ल की कविता से अभी-अभी बाहर निकले हों। जो उनके घर कभी नहीं आएँगे, वह उनसे मिलने उनके पास चले जायेंगे। पास पहुँचकर वह सिर्फ़ हालचाल लेंगे। और कुछ नहीं कहेंगे। ऐसे ही वे हमारे बचपन में मास्टर बनकर आए।...