'एक्वारजिया' या करूँ उसका अनुवाद तो अम्लराज ! या शाही जल !अम्लरानी क्यों नहीं ?ज़िन्दगी की झील मेंबुदबुदाते गम और उसका प्रतिफल जैसे सांद्र नाइट्रिक अम्ल और हाइड्रोक्लोरिक अम्ल का ताजा मिश्रण एक अनुपात तीन का सम्मिश्रण उफ़ ! धधकता बलबलाता हुआ सब कुछ कहीं स्वयं न पिघल...