चित्र साभार गूगलसृष्टि का संहार रोको/युद्ध कभी सुपरिणाम नहीं देताएक सामयिक गीत-क्या यही सुदिनधरा-गगनचाँद-सूर्यसब हुए मलिन ।नायक सेनरभक्षी हो गए पुतिन ।बारूदों सेसारी दुनिया को पाटो,कांतिहीनवीटो हैशक्तिहीन नाटो,मानवताचीख रहीक्या यही सुदिन ।दृष्टिहीनर...