८. हसेगांव (लातूर) से अहमदपूर इस लेख माला को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए|कल रात भर अच्छी बारीश हुई| कल मै जहाँ ठहरा था, वहाँ गर्मी और मच्छरों ने नीन्द नही लेने दिया| लगभग पूरी रात जगा रहा| सुबह चार बजते ही संस्था के एक कार्यकर्ता मिलने आए| फिर कुछ देर...