ब्लॉगसेतु

विजय राजबली माथुर
96
 ***** पाँच वर्ष पूर्व ब्लाग-पोस्ट के माध्यम से नारियों/महिलाओं को 'करवा चौथ' जैसे कुत्सित एवं वीभत्स कु-पर्व के संबंध में सचेत करने का प्रयास किया था। लेकिन समाज में यह संक्रामक रोग और अधिक तेज़ी से फैल गया है। व्यापार/उद्योग जगत के मुनाफे की जुगत ने ढोंग-पाखं...
sanjiv verma salil
6
मुक्तक:*चाँद हो साथ में चाँदनी रात होचुप अधर, नैन की नैन से बात हो पानी-पानी हुई प्यास पल में 'सलिल'प्यार को प्यार की प्यार सौगात हो *चाँद को जोड़कर कर मनाती रहीहै हक़ीक़त सजन को बुलाती रही पी रही है 'सलिल' हाथ से किन्तु वह प्या...
Sandhya Sharma
229
मेरा चांद समझता हैमेरे चूड़ी, बिछुए, झुमकेपायल की रुनझुन बोलीसुन लेता है, वह सबजो मुझे कहना तो थालेकिन किसीसे ना बोलीपढ़ लेता है मेरीआँखों की भाषाहरपल बिखेरता रहता हैस्नेह की स्निग्ध चाँदनीअमृत बरसाता हैअहसास दिलाता हैजीवन की धुरी हूँ मैंअधूरा है वह मेरे बिनाकभी आध...
विजय राजबली माथुर
73
*निश्चय ही 'चंद्रमा' का मानव-जीवन पर व्यापक प्रभाव पड़ता है लेकिन केवल महिला वर्ग पर ही उसे क्यूँ लागू किया जाता है? *चूंकि चंद्रमा सूर्यास्त के बाद ही प्रभावी हो पाता है अतः सूर्यास्त के बाद 'जल' का सेवन कम किया जाना चाहिए। लेकिन पोंगापंथी ढोंगवादचंद्रमा को जल...
Madabhushi Rangraj  Iyengar
235
रिश्तों की मिठास करीब 20-25 बरस पहले की बात है. हमारी एक परिचित “भाभीजी” ने मेरे घर की चाबी माँगी. व्यवहार वश मजबूर बिना कोई सवाल किए मैंने चाबी उनके सुपुर्द कर दी. वे बोलीं शाम के ऑफिस से लौटते वक्त घर से चाबी ले जाईएगा. मैंने कहा ठीक है और ऑफिस का रुख कर गया...
 पोस्ट लेवल : भाभीजी करवा चौथ चाँद
Kailash Sharma
174
चाहे हो बेटी, पत्नी या माँक्यों आते औरत के ही हिस्से सभी व्रत और त्याग कभी बेटे और कभी पति के लिएअहोई अष्टमी या करवा चौथ।क्यूँ नहीं होता कोई व्रत या त्यौहार पुरुषों के लिए भी माँ या पत्नी की मंगलकामना को,मदर्स या वेलंटाइन डेबन कर रह गये केवल औपच...
शिवम् मिश्रा
19
पिया का घर-रानी मैं  …बचपन के गुड़िया घर से राजा का इंतज़ार और रानी होने का गुमां लड़कियों को व्रत करने की कर्मठता देते हैं - हरियाली तीज,तीज,सोलह सोमवार, …करवा चौथ इत्यादि कई व्रत हैं,जिसके आगे पति की दीर्घायु की कामना लिए पत्नी अन्न,जल ग्रहण नहीं करती,सावित्...
Sanjay Chourasia
181
व्रत तो एक बहाना है सच तो ये है कि ,मुझे तुम्हारे दिल में और अन्दर तक समाना है !यूँ तो तुमने मुझे अपना सब कुछ दे दिया पर हर जन्म मेंतुम मेरे और मैं तुम्हारी ही रहूँ इसके लिए इश्वर को मनाना   है !( प्रिये पत्नी गार्ग...
 पोस्ट लेवल : करवा चौथ
Sandhya Sharma
229
( 'पूर्णस्य पूर्णमादाय ' कहने से तात्पर्य यह है की यदि तुम स्वयं इस सत्य की अनुभूति कर सको कि वही ' पूर्ण ' तुम्हारे साथ साथ इस विश्व ब्रह्माण्ड के कण कण में भी प्रविष्ट है तो फिर उस ' पूर्ण ' के बाहर शेष बचा क्या ? इसी को कहा गया - ' पूर्णमेवावशिष्यते '.... ! 'करव...
ऋता शेखर 'मधु'
296
!! करवा चौथ की हार्दिक मंगलकामनाएँ !!