ब्लॉगसेतु

ऋता शेखर 'मधु'
118
अवतरण दिवस है राम काध्वजा उठी हनुमान कीवाल्मीकि ने कथा कहीजग में भक्तों के मान कीकठिन थे दिन वनवास केसघन खिंची थी लक्षमण रेखासरल सिया न समझ सकीपूर्वनियोजित विधि का लेखायाचक को लौटा न सकीसोच बढ़ी थी स्वाभिमान कीहरी गई सिय लोप हुईबिलख पड़े रघुनंदन भाईजाने कौन दिशा मे...
 पोस्ट लेवल : कविता गीत सभी रचनाएँ
रवीन्द्र  सिंह  यादव
295
तुम फ़रिश्ता हो या शैतान तुम्हारे कर्म तय करेंगे, तुम रहनुमा हो या दिग्भ्रामक भावी पीढ़ी के लोग तय करेंगे। तुमने किसी को ऊपर उठाया है या रचीं थीं साज़िशें किसी को गिराने की इंतज़ार करो  यह तो समय तय करेगा।&nbs...
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
Rajeev Upadhyay
116
रूप की जब की बड़ाई, रात के बारह बजे शेरनी घेरे में आई, रात के बारह बजे कल जिसे दी थी विदाई, रात के बारह बजे वो बला फिर लौट आई, रात के बारह बजे हम तो अपने घर में बैठे तक रहे थे चांद को और चांदनी क्यों छत पे आई, रात के बारह बजेदेखने को दिन में ही मनहूस चेहरे कम...
Roli Dixit
162
प्रेयसी बनना चाहती है वोपर बिना पहले मिलनप्रेम सम्भव ही कहाँ,सुलझाते हुए अपने बालों की लटेंउसे प्रतीक्षा होती है उस फूल कीजो उसका राजकुमार लाएगाजूड़े में लगाने को.चढ़ाते हुए चूल्हे पर चायवो मिठास ढूँढती हैकि उन हाथों में जाने से पहले प्यालामद्धम आँच के ज्वार भाटे सहे...
 पोस्ट लेवल : कविता प्रेम कविता
Bharat Tiwari
15
हिंदी पोएट्री: नौ नवम्बर व अन्य अनामिका अनु की कवितायेँHindi Poetry, Anamika Anu.अनामिका अनु की इन कविताओं को आपके सामने लाने के पहले कई-कई दफ़ा पढ़ा है। हिंदी कविता के साथ यह बहुत खूबसूरत घटना घट रही है जब उसकी कविता को ऐसी एक नई आवाज़ मिल रही है जो पर...
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
Yashoda Agrawal
5
सिर्फ़ तुम्हारी बदौलतभर गया था अप्रैलविराट उजाले सेहो रही थी बरसातअप्रैल की एक ख़ूबसूरत सुबह मेंचाँद के चेहरे पर नहीं थी थकावटरातों के सिलसिले मेंएक इन्द्रधनुष टँग गया थाअप्रैल की शाम मेंएक सूखे दरख़्त की फुनगी मेंमंदिर की घंटियाँगिरजे की कैंडल्स औरमस्जिद की अज़ानघ...
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता