ब्लॉगसेतु

यूसुफ  किरमानी
196
शाहीन बाग में कहानी के किरदारों की तलाशकोई लेखक-लेखिका जब किसी जन आंदोलन में अपनी कहानियों और उपन्यासों के किरदारों को तलाशने पहुंच जाए तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि शाहीन बाग का आंदोलन कहां से कहां तक पहुंच गया है।हिंदी की मशहूर उपन्यासकार औऱ कहानी लेखिका नासिरा श...
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
देवेन्द्र पाण्डेय
109
आदमी के मरने से पहलेपढ़ना छोड़ देंगे लोगकविताएँखरीदना छोड़ देंगेउपन्याससुन ही नहीं पाएंगेगीतशोर लगने लगेगासंगीतअखबार के पृष्ठों सेगुम हो जाएगाखेल समाचार,कार्टून का कोना औरव्यंग्यालेख!टी.वी. मेंलोकप्रिय नहीं रह जाएंगेमनोरंजन के चैनललोग देखेंगेसिर्फ समाचारफ्लॉप होने लगे...
 पोस्ट लेवल : कविता
Meena Bhardwaj
147
(1)क्षितिज परउगी हैं काली घटाएंलगता है …,झूम के मेह बरसेगा लम्बी प्रतीक्षा के बाद वसुन्धरा भीआज खिल उठेगीनवेली दुल्हन सी  (2)एक अर्से के बाद मिले हैं...यादों की संदूकची सेआज ...बेशकीमती लम्हेंनिकलेंगें….,उन अहसासों कोछूने के बाद ...आँखों से...
 पोस्ट लेवल : कविताएँ
अनीता सैनी
100
 मैंने देखा ता-उम्र तुम्हें,    ज़िंदा है इंसानियत तुम में आज भी तुम बहुत ही बहादुर हो,  इतने बहादुर की जूझते हो स्वयं से ,   तलाशते हो हर मोड़ पर प्रेम  |देखा है तुम्हारे नाज़ुक दिल को मैंने अनगिनत बार छलनी होते...
अभिलाषा चौहान
28
..............................
 पोस्ट लेवल : सम-सामयिक कविता
रवीन्द्र  सिंह  यादव
301
तिल-तिल मिटना जीवन का,विराम स्मृति-खंडहर में मन का। व्यथित किया ताप ने ह्रदय को सीमा तक,वेदना उभरी कराहकररीती गगरी सब्र की अचानक। अज्ञात अभिशाप आतुर हुआ बाँहें पसारे सीमाहीन क्षितिज पर आकुल आवेश में अभिसार को चिर-तृप्ति अभिरा...
 पोस्ट लेवल : अज्ञात अभिशाप कविता
Meena Bhardwaj
147
अतृप्त तृष्णाएं अनन्त और असीम हैं ।निस्सार संसार में यही जीवन की रीत है ।।कोल्हू का बैल  मानव भ्रम में जीता रहता सदा ।स्पर्धाओं में भागते-दौड़ते कभी कम नही हुई व्यथा ।।अनेकों रूप धरे पिपासाएं हर दम मन को  उलझाती ।काम-क्रोध ,लोभ-मोह   जीवन के अभिन्न सा...
 पोस्ट लेवल : कविताएँ
अभिलाषा चौहान
28
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
YASHVARDHAN SRIVASTAV
684
जीवन कि लड़ाइयों से,लड़ रहा हूं मैंचाहे कुछ भी हो लेकिन,आगे बढ़ रहा हूं मैंकुछ इस कदरनदी के रूप सा, ढल रहा हूं मैंतपती धूप में भीचल रहा हूं मैं।।