ब्लॉगसेतु

Meena Bhardwaj
11
सांझ की चौखट परआ बैठी दोपहरीकब दिन गुजराकुछ भान  नही...नीड़ों में लौट पखेरुडैनों में भरउर्जित जीवनउपक्रम करते सोने कावे कब सोये फिर कब जागेपौ फटने तकअनुमान नही...गुजरा हर दिनएक युग जैसाकितने युग गुजरेबस यूंहींअवचेतन मन कोज्ञान नही...★★★★★
 पोस्ट लेवल : कविताएँ
ऋता शेखर 'मधु'
120
कैसा मिला है साथशीतल उष्ण मिल गएजैसे तुम और हमचक्र घूम कर बता रहाकभी खुशी या गमजो पिघला वह ठोस हुआजीवन अनबुझ राजपतझर की लीला बड़ीबजा बसन्त का साजसूर्य बिना वह कुछ नहींचँदा का मन जान रहाकहाँ तपन घट जाएगीसूरज को भी भान रहाएक दूजे बिन हैं अधूरेपर मिलन की राह नहींअवनी अ...
 पोस्ट लेवल : कविता सभी रचनाएँ
Roli Dixit
165
उस रोज़ मर गयी थी माँलोग सांत्वना दिए जा रहे थे,'&...
 पोस्ट लेवल : कविता
Roli Dixit
165
सब कुछ भूलने से पहलेमन कियाकि सब कुछ याद कर लू&#2...
 पोस्ट लेवल : कविता
dilbagvirk
141
पूरी कायनात हैरान है तू आज मेरा मेहमान है। वस्ल की यादें, प्यार की ख़ुशबू ख़ुशियों का सारा सामान है। कैसे याद रहा तुझे वर्षों तक इस गली में मेरा मकान है। इसे बेज़ुबां न समझो लोगो दिल की भी एक ज़ुबान है। दुआएँ असर करती हैं आख़िर&nb...
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
डा. सुशील कुमार जोशी
16
ना कहना आसान होता है ना निगलना आसान होता है सच कहने वाले के मुँह पर राम और सीने पर गोलियों का निशान होता है सच कहने वाला गालियाँ खाता है निशान बनाने वाले का बड़ा नाम होता है ‘उलूक’ यूँ ही नहीं कहता है अपने कहे हुऐ को एक बकवास उसे पता है कविता कहने और करने वाला कोई ए...
Meena Bhardwaj
11
"शरद पूर्णिमा का चाँद"चाँदी जैसी आब लिएधवल ज्योत्सना कीऊँगली थाम...बादलों पर कर सवारीनीलाम्बर आंगन मेंउतरा है अपनी पूरी ठसक भरीसज-धज के साथशरद पूर्णिमा का चाँदरात की सियाही मेंकहीं भी..धरती पर उगेअनगिनत दिपदिपातेअपने सरीखे दिखतेभाई-बंधुओं के बीचठगा सा सोचता है...
 पोस्ट लेवल : लघु कविताएँ
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
Saransh Sagar
244
आज तमाम नेता और समाज सेवा के नाम पर प्रचार करने वाले कुछ लोग शौक और लोकप्रियता के लिए झाड़ू उठाते फिर रहे है ! जो अपने घर में झाड़ू,पोछा नही कर सकते वो अब स्वच्छता का ज्ञान पेल रहे है ! इस अभियान को फ़ैलाने का उद्देश्य तो सकारात्मक था पर इस अभियान के नाम पर वोट बैंक ब...