ब्लॉगसेतु

anup sethi
285
विष्णु खरे जी की यह बातचीत चिंतनदिशा के हाल के अंक में यानी 2019 अंत में छपी है। इसकी शुरुआती रिकॉर्डिंग 2012 में रमेश राजहंस के घर पर रात के खाने पर हुई। बातचीत करने के लिए पत्रिका से जुड़े हुए लेखक थे - हृदयेश मयंक, विनोद श्रीवास्तव, रमेश राजहंस, शैलेश सिंह। रिकॉ...
anup sethi
285
तिब्‍बती कवि लासंग शेरिंग  से कुछ साल पहले धर्मशाला मैक्‍लोडगंज में भेंट हुई थी। तिब्‍बत की आजादी के लिए संघर्ष करने वाला कवि मैक्‍लोडगंज में बुुक वर्म नाम की किताबों की दुकान चला कर अपना जीवन चलाता है और अपने मुल्‍क की आजादी के ख्‍वाब देखता है। लासंग की...
anup sethi
285
तिब्‍बती कवि लासंग शेरिंग  से कुछ साल पहले धर्मशाला मैक्‍लोडगंज में भेंट हुई थी। तिब्‍बत की आजादी के लिए संघर्ष करने वाला कवि मैक्‍लोडगंज में बुुक वर्म नाम की किताबों की दुकान चला कर अपना जीवन चलाता है और अपने मुल्‍क की आजादी के ख्‍वाब देखता है। लासंग की...
anup sethi
285
तिब्‍बती कवि लासंग शेरिंग से कुछ साल पहले धर्मशाला मैैक्‍लोडगंज में भेंट हुई थी। तिब्‍बत की आजादी के लिए संघर्ष करने वाला कवि मैक्‍लोडगंज में बुुक वर्म नाम की किताबों की दुकान चला कर अपना जीवन चलाता हैै और अपने मुल्‍क की आजादी के ख्‍वाब देखता है। लासंग की...
anup sethi
285
तिब्‍बती कवि लासंग शेरिंग से कुछ साल पहले धर्मशाला मैैक्‍लोडगंज में भेंट हुई थी। तिब्‍बत की आजादी के लिए संघर्ष करने वाला कवि मैक्‍लोडगंज में बुुक वर्म नाम की किताबों की दुकान चला कर अपना जीवन चलाता हैै और अपने मुल्‍क की आजादी के ख्‍वाब देखता है। लासंग की चार कविता...
anup sethi
285
विष्‍णु खरे : अधूरी रह गई एक बातचीत, रमेश राजहंस के घर विष्‍णु खरे : जब मैं उन्‍हें विजय कुमार जी के घर ले गया विष्‍णु खरे : विजय कुमार जी के साथ हमारे घर परविष्‍णु खरे : काल और अवधि के दरमियान की प्रति विष्‍णु खरे: पाठान्‍तर की प्रतिलिखते कुछ बन नही...
anup sethi
285
                                                      असगर वजाहतपंजाबी कवि सुरजीत पातर साहब की इन कविताओं का अनुवाद शायद बीस से ज्...
anup sethi
285
                                                        असगर वजाहतपंजाबी कवि सुरजीत पातर साहब की इन कविताओं का अनुवाद शायद बी...
anup sethi
285
                                                       असगर वजाहतपंजाबी कवि सुरजीत पातर साहब की इन कविताओं का अनुवाद शायद बीस...
anup sethi
285
                                                                     असगर वजाहतपंजाबी कवि...