ब्लॉगसेतु

रवीन्द्र  सिंह  यादव
121
तिमिर भय नेबढ़ाया हैउजास से लगाव,ज्ञानज्योति नेचेतना से जोड़ातमस कास्वरूपबोध और चाव।घुप्प अँधकार मेंअमुक-अमुक वस्तुएँपहचानने का हुनर,पहाड़-पर्वतकुआँ-खाईनदी-नालेअँधेरे में होते किधर?कैसी साध्य-असाध्यधारणा है अँधेरा,अहम अनिवार्यता भी हैसृष्टि में अँधेरा।कृष्णपक्ष कीविकट...
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
Vijay Prabhakar Nagarkar
536
संत ज्ञानेश्रर जी ने ज्ञानेश्वरी ग्रंथ अर्थात "सटीक भावार्थ दीपिका"  पूर्ण करने के उपरांत ईश्वर को जो प्रार्थना लिखी थी,उसे 'पसायदान' से मराठी विश्व में ख्याति प्राप्त हुई है। अत्यंत कष्टदायी जीवन बिताने पर गीता ग्रंथ पर सटीक विवरण प्राकृत मराठी में लिखा। संन्...
 पोस्ट लेवल : #अनुवाद #Translation #कविता
Vijay Prabhakar Nagarkar
536
(समाज सुधारक और देश में नारी को शिक्षा देने के लिए पहला  स्कूल पुणे में खोलने वाले ज्योतिबा फुले पर लिखी गयी मराठी कविता का हिंदी अनुवाद)  ----ज्योतिबाधन्यवाद।आप  उसेदहलीज केबाहर ले आये,क ख ग घत थ द धपढ़ायाऔरकितना बदलाव आया है ,अब उसेदस्तख़त के लिएबायी...
 पोस्ट लेवल : #अनुवाद #Translation #कविता
Vijay Prabhakar Nagarkar
536
अब इस गांधी का क्या करें ?
 पोस्ट लेवल : #अनुवाद #Translation #कविता
Vijay Prabhakar Nagarkar
536
 मराठी कविता "आई"माँ एक नाम हैअपने आप भरा पूरा घर में जैसे एक गाँव है,सभी में मौजूद रहती हैअब इस दुनिया से दूर हैलेकिन कोई मानता नहीं।मेला खत्म हुआ, दुकानें उठ गईपरदेस में क्यों आंखे नम हुई,माँ हर दिल में कुछ यादें छोड़ जाती हैहर दिल जानता है माँ का दिल,घर...
 पोस्ट लेवल : #अनुवाद #कविता #Translation
dilbagvirk
141
मैं क़ाबिल न था या मेरा प्यार क़ाबिल न था तुझे पाना क्यों मेरी क़िस्मत में शामिल न था। इश्क़ के दरिया में, हमें तो बस मझधार मिले थक-हार गए तलाश में, दूर-दूर तक साहिल न था। हैरान हुआ हूँ हर बार अपना मुक़द्दर देखकरग़फ़लतें होती ही रही, यूँ तो मैं ग़ाफ़िल न...
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता कहानी
Roli Dixit
163
जब पहली बार निकलो यात्रा परतो कुछ भी न रखना सा&#2...
 पोस्ट लेवल : कविता