ब्लॉगसेतु

रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता कहानी
Roli Dixit
163
जब पहली बार निकलो यात्रा परतो कुछ भी न रखना सा&#2...
 पोस्ट लेवल : कविता
Sumit Pratap Singh
304
इस दिवाली दिये जलानादेश की सौंधी माटी के भूल के भी तुम मत लानाझालर-लड़ियाँ चीन घाती केअपना पैसा अपने घर मेंहमें छिपा के रखना हैलघु उद्योगों की सांसों को हमें बचा के रखना हैझालर-लड़ियों से कीट-पतंगेघर के भीतर आ बढ़ते हैंदिये प्रज्ज्वलित करना तुम बीमारी क...
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
सुबोध  श्रीवास्तव
240
चित्र गूगल सर्च इंजन से साभारमेरी कविता के बारे मेंमेरे पास सवारी करने के लिएचाँदी की काठी वाला अश्व न थारहने के लिए कोई पैतृक निवास न थान धन दौलत थी और न ही अचल सम्पत्तिएक प्याला शहद ही था जो मेरा अपना थाएक प्याला शहदजो आग की तरह सुर्ख़ था !मेरा शहद ही मेरे लिए सब...
 पोस्ट लेवल : कविता
Roli Dixit
163
PC: Pexelदिन पर दिन वृहद होती मेरी इच्छाएंएक दिन मेरी कविताओं का कौमार्य भंग कर देंगी,उभरते हुए शब्दों के निशीथ महासागर मेंगहराई का एक मुहावरा भर बनकर रह जाएंगीसिर टिकाए हुए भाषा और देह के व्याकरण मेंविलुप्त हो रही स्मृतियों में तलाशी जाएंगीबावजूद भी इसके क्या संभव...
 पोस्ट लेवल : कविता
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता