ब्लॉगसेतु

Roli Dixit
62
हम अभी जस्ट मैरीड ही हैं. हाँ नहीं तो लॉक डाउन में ही कर लिए शादी. क्या है कि अम्मा जी को नया अचार रखना था सो मर्तबान ख़ाली करने थे. जबे देखो तबे परधान जी का फ़ोन मिलाए के कहें…"लाली की अम्मा से कहि देव हम बीस जन आई के भौंरी डरवाय लै जैहैं. बियाह तो अबहिने करी लें. ह...
 पोस्ट लेवल : कोरोना कोविड कहानी Corona
Bharat Tiwari
23
Hindi Story 'Shatranj ke Khiladi' — Munshi Premchandमुंशी प्रेमचंद की हिन्दी कहानीशतरंज के खिलाड़ीवाज़िदअली शाह का समय था। लखनऊ विलासिता के रंग में डूबा हुआ था। छोटे-बड़े, गरीब-अमीर— सभी विलासिता में डूबे हुए थे। कोई नृत्य और गान की मज़लिस सजाता था, तो कोई अफीम की...
anup sethi
282
वीटी स्टेशन की धरोहर इमारत पर लगी मूर्ति मैंने कहानियां ज्यादा नहीं लिखीं हैं । जो लिखी हैं वे भी पचीस तीस साल पहले । रोटियां कहानी हिमाचल की ग्रामीण पृष्ठभूमि पर है, जो मधुमति में छपी थी । मुंबई के आवारा कुत्तों के पकड़ने की कुत्ताघर नाम की कहानी वर्तमान साहि...
 पोस्ट लेवल : कहानी अनूप सेठी
Bharat Tiwari
23
छोटी बच्चियों का, बेटियों का ख़ुद को बचा कर भागना क्या हमेशा ज़ारी रहेगा? कुसुम भट्ट की कहानी 'नदी की उँगलियों के निशान' पढ़िए। पहाड़ो के कहानीकारों की भाषा और सन्दर्भ क्या कुछ अधिक प्राणवायु भरे होते है? ... भरत एस तिवारी/शब्दांकन संपादकनदी की उँगलियों के निशान— कुसुम...
Bharat Tiwari
23
वरिष्ठ साहित्यकार मृदुला गर्ग डिप्रेशन पर अपनी कहानी (Hindi Story on Depression) के बारे में बताते हुए कहती हैं,भारत में सच्चे मनोचिकित्सक नहीं के बराबर हैं। उनका सिर्फ दवा पर निर्भर रहना और मरीज को न समझ पाना अवसाद बढ़ाता है, कम नहीं करता। (adsbygoogle = windo...
Roli Dixit
62
चेतक हवा से बातें कर रहा और राजकुमारी स्वयं से. उनका मन उलझनों से घिर रहा था और वो उड़कर महल तक पहुँचना चाहती हैं. महल में पहुँचते ही सर्वप्रथम रानी माँ के गले लग जाएँगी और उन्हें विस्तार से बताएँगी कि उनके साथ क्या-क्या घटित हुआ. जीवन के अठारह वर्ष यही तो करती आयीं...
Bharat Tiwari
23
कोई रिश्ता ना होगा तब — नीलिमा शर्मा की कहानीHindi Storyसुमन ने बहुत कोशिश की परतु उसकी आवाज़ नक्कारखाने में तूती सी रह गयी आखिर टेस्ट कराना ही पढ़ा और डॉक्टर ने “जय माता की” कहकर जैसे वज्रपात कर दिया राजीव और मांजी पर...अब सबके सुर बदल गये। नहीं !!&...
Roli Dixit
62
गतांक से आगे--"तो आप द्वैत गढ़ की राजकुमारी हैं?" उन अपरिचित ने प्रश्न कर राजकुमारी का ध्यान भंग करने की चेष्टा की."हम किन शब्दों में अपना परिचय दें तो आप समझेंगे?" राजकुमारी ने भी पलटवार किया."आप अपनी जिह्वा को अधिक विश्राम नहीं देती हैं?""आप प्रश्न अधिक नहीं करते...
Roli Dixit
62
राजकुमारी इठलाती हुई महल से बाहर आ गयी. कुछ हो क्षणों में उनका चेतक हवा से बातें करने लगा. पालकी और चेतक दोनों एक-दूसरे के विपरीत पर उनमें से किसी को भी एक-दूसरे के साथ की आवश्यकता ही कब थी. वो तो रानी के आदेश का पालन करना था. राजकुमारी आज अपने प्रथम भ्रमण में इतनी...
Roli Dixit
62
बात यही कोई एक सौ साल पुरानी है द्वैतगढ़ में एक राजकुमारी रहा करती थी जो अपनी सुंदरता के लिए जानी जाती थी. उनके अधरों पर प्रशंसा के कितने ही गीत लिखे गए जो यदाकदा उनके कत्थई नेत्रों के सामने से आए गए परन्तु उनके गुलाबी गालों को सम्मोहित न कर सके. अपने भाई सा से उन्ह...
 पोस्ट लेवल : धारावाहिक कहानी