ब्लॉगसेतु

इंदु सिंह
204
एक मोर बेहद ख़ूबसूरत,नहीं आना चाहता था ज़मीन पर सदा पेड़ की सबसे मजबूत शाखा पर बैठ निहारता ज़मीन को और डर जाता कि ज़मीन पर तो खतरा है बहुत मै यहीं सुरक्षित हूँ । यहीं से ही ज़मीन की सुन्दरता को देखना ठीक है सोचता वो मन ही मन । अचानक एक रोज़ एक इंसान ने देख लिया उस...
 पोस्ट लेवल : कहानी
Deen Dayal Singh
236
मनोज कुमार  भारती
235
एक नदी है नाम है उसका मोत्जू। वैसे तो वह भी अन्य नदियों की तरह ही है। परंतु उसमें कुछ खास है तो वह है उसका शीतल जल और उसके किनारों पर सुंदर हरियाली। कहतें हैं यह दिव्य नदी है जो रूप बदल सकने में सक्षम है और कभी भी अपना रूप आकार बदल कर आस-पास के जीवन को प्रभावित कर...
अनुलता राज नायर
295
मेरी पहली  कहानी महामुक्ति  पर सकारात्मक टिप्पणी करने के पहले आप लोगों ने सोचा नहीं.....सो अब पेशे खिदमत है मेरी दूसरी कहानी...इसके रंग और महक कुछ अलग हैं....ज्यादा वक्त नहीं लगेगा सो पूरी पढ़ें ज़रूर....जब भी वक्त मिले...         ...
 पोस्ट लेवल : कहानी
Bhavana Lalwani
359
 सीता दरवाजे के पास खड़ी ध्यान से देख रही है.. आशिमा दीदी dressing टेबल के सामने खड़ी makeup  कर रही हैं..  टेबल पर और पास की शेल्फ्स में तरह तरह के कॉस्मेटिक्स और पता नहीं कौन कौन सी चीज़ें रखी हैं.. आशिमा की अलमारी आधी खुली है जिसमे टंगे कपडे, नीचे...
kavita verma
244
कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन -36- कविता वर्मा की कहानी...आगे पढ़ें: रचनाकार: कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन -36- कविता वर्मा की कहानी : सगा सौतेला http://www.rachanakar.org/2012/08/36.html#ixzz23bDx7HEt http://www.rachanakar.org/2012/08/36.html
 पोस्ट लेवल : कहानी...
अविनाश वाचस्पति
131
इमेज पर क्लिक करके पढ़ेंअब प्रतिक्रिया भी दीजिए
ललित शर्मा
61
..............................
अनुलता राज नायर
295
ये मेरी पहली कहानी है इसलिए कमियां लाज़मी हैं......कृपया पढ़ें और बेबाक टिप्पणियां दें.महामुक्ति भटक रही थी वो रूह,उस भव्य शामियाने के ऊपर,जहाँ सभी के चेहरे गमज़दा थे और सबने उजले कपडे पहन रखे थे.एक शानदार मंच सजा था जिस पर उसकी एक बड़ी सी तस्वीर,और तस्वीर पर ताज़े ग...
 पोस्ट लेवल : कहानी
इंदु सिंह
204
सुबह का वक्त है ड्राइंग रूम में अकेले सोफे पर बैठे हुए आँखें बंद करीं कि न जाने कहाँ से सुधा और चंदर याद आ गए.चेहरे पे मुस्कान पर दिल में गहरी टीस उठी ये वो किरदार हैं जिनसे आप सभी परिचित हैं,हर घर में सुधा हर घर में चंदर है ,बस हर घर की कहानी अलग है.यूँ तो प्यार ज...
 पोस्ट लेवल : कहानी