ब्लॉगसेतु

Meena Bhardwaj
25
झील किनारे...बसी है बैया कॉलोनी,सूखी शाखों पर ।मेरे मन की सोचों जैसी...थकान भरी और,स्पन्दनहीन ।
 पोस्ट लेवल : क्षणिकाएँ
4
--जीवन !दो चक्रकभी सरलकभी वक्र,--जीवन !दो रूपकभी छाँवकभी धूप--जीवन!दो रुखकभी सुखकभी दुःख--जीवन !दो चक्रकभी सरलकभी वक्र,--जीवन !दो रूपकभी छाँवकभी धूप--जीवन!दो रुखकभी सुखकभी दुःख--जीवन !दो खेलकभी जुदाईकभी मेल--जीवन !दो ढंगकभी दोस्तीकभी जंग--जीवन !दो आसकभी तमकभी प्रका...
 पोस्ट लेवल : कुछ क्षणिकाएँ जीवन
Meena Bhardwaj
25
(1)मुझको समझने के लिएकाफी हैं  शब्दों के पुलमेरी दुनिया शब्दों से परेअधूरी सी है ….(2)सांसारिक व्यवहारिकताअभेद्य दीवार सी हैमेरे लिए...पारदर्शिता के अभाव मेंघुटन महसूस होती है(3)अचानक …टूट कर गिरा एक लम्हाखुद की खुदगर्ज़ी भूल...सीना ताने खड़ा हैलेने हिसाबज़िन्दगी...
 पोस्ट लेवल : क्षणिकाएँ
जेन्नी  शबनम
66
स्वाद / बेस्वाद******* 1. तेरे इश्क का स्वाद   मीठे पानी के झरने-सा   प्यास से तड़पते राही को   इक घूँट भर भी मिल जाए   पीर-पैगंबर की दुआ   कुबूल हो जाए।   2. एक घूँट इश्क   और तेर...
जेन्नी  शबनम
66
1. सच  ***  न कोई कल था  न कोई आज है  जो पाया, सब खोया  जीवन का यही सच है।  __________________2. हुनर  ***  छोटी-छोटी डिब्बियों में भर कर  सीलबंद...
 पोस्ट लेवल : क्षणिकाएँ चिन्तन
Roli Dixit
20
१. तुम आग होतो मैं एक रसायनआओ मिलकर बनाते हैंजैविक हथियारऔर समूचे ब्रह्मांड मेंफैला देते हैंप्रेम का वायरस.२. प्रतीक्षा है मुझेउस दिन कीजब पृथ्वीअपना गुरुत्व खो देगीऔर मैंतुम्हारा हाथ थामकर चलूँगीतुम्हें मंगल ग्रह तक छोड़ने…
 पोस्ट लेवल : क्षणिकाएँ 2
शालिनी  रस्तौगी
185
 पोस्ट लेवल : क्षणिकाएँ
शालिनी  रस्तौगी
185
न स्वामिनी, न दासी शिव की, तुम संगी शिव की शक्ति।तुम शिव में लय, शिव तुम में लीन, शिव-प्रीत रंगी शक्ति।अर्धांग नहीं पूरक शिव की, तुम तप तुम लीला शिव की,शिव-अनुरागी, शिव की सहगामी तुम शिव अनुषंगी शक्ति।
 पोस्ट लेवल : क्षणिकाएँ
जेन्नी  शबनम
66
10 क्षणिकाएँ *******  1. परत***  मेरे मौसम में अब कोई नहीं  न मेरे मिजाज में कोई शामिल है  मेरे मन पर जो एक नरम परत लिपटा था  समय की ताप से पककर  वह अब लोहे का हो गया है।  _____________...
Meena Bhardwaj
25
(1)थके तन में बोझल मनडूब रहा है यूं .....जैसे..अतल जल मेंपत्थर का टुकड़ा(2)स्नेहिल अंगुलियों कीछुवन मांगता है मन..बन्द दृगों की ओट मेंनींद नहीं..जलन भरी है(3)दिखावे से भरपूरढेर सारी गर्मजोशीआजकल केरिश्ते-नाते भी ..हायब्रिड गुलाब जैसे लगते हैं★★★
 पोस्ट लेवल : क्षणिकाएँ