ब्लॉगसेतु

डॉ शिव राज  शर्मा
391
ख़्वाब, प्यार, वादा, वफ़ा, के कौन है दुश्मन ।ये है बेबसी, गरीबी,धोखा, तन्हाई और जुदाई ।बस नसीब का खेल है और कुछ नहीं प्यारेकिसी को गम मिला तो किसी ने ख़ुशी पाई ।----शिवराज---
Akanksha Yadav
118
बेटियाँ भले ही समाज में अपनी प्रतिभा से रोशनी फैला रही हों, पर उनकी उपलब्धियों को सामाजिक मान्यता मिलने में अभी भी देरी है। बेटियाँ लाख सफलता के नए मुकाम रचें, पर समाज की मानसिकता अभी भी उन्हें परिवार में दोयम स्थान ही देती है। ऐसी स्थिति में,   जिस घरमें पहले...
Akanksha Yadav
118
हौसला हो तो सब कुछ हासिल किया जा सकता है, बस जरूरत अपनी इच्छा शक्ति को मजबूत रखकर संघर्ष करने की है। पश्चिम बंगाल के कृष्णानगर वूमेंस कॉलेज में एसोशियट प्रोफ़ेसर मानोबी बंद्योपाध्याय एक नया इतिहास रचने को तैयार हैं।  भारत में पहली बार किसी ट्रांसजेंडर को प्रिं...
राजेश कश्यप
268
विशेष रिपोर्ट :  राजेश कश्यप, रोहतक (हरियाणा ) 250 गरीब पिछड़े परिवारों का महापंचायत में  ‘ऐलान-ए-जंग’!‘‘बिना पूर्ण न्याय हासिल किये, हम चैन से नहीं बैठेगें, न ही किसी को बैठने देंगे और न्याय पाने के लिए किसी भी हद तक जाएंगे व हर कुर्बानी द...
सरिता  भाटिया
159
एक काली रात में खुद से ही बुदबुदाया गरीब लाचार बाप...सो जाता हूँ फुटपाथ पर शायद आ जाये कोई सलमान दे जाये एक घर मेरे बच्चों को लेकर मेरी दौ कोड़ी की 'जान'जिससे जुटा नहीं पाऊंगा कभी छत्त इन अभागों के लिए 
Akanksha Yadav
118
वक़्त के साथ समाज में काफी कुछ परिवर्तित हो रहा है।  लोगों के रहन-सहन से लेकर सोचने के तरीके तक। जबसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ्ता अभियान की बात की है, इसको अपने भाषणों में सामाजिक सरोकारों से जोड़ा है, लोगों में भी एक नई चेतना का संचार हुआ है। अपने दे...
राजेश कश्यप
268
250 कश्यप परिवारों पर पुलिस-प्रशासन ने ढ़ाया कहर      गत 15 मई, 2015 की सुबह हरियाणा के गुड़गाँव जिले के गाँव फतेहपुर झाड़सा, सैक्टर-47 के 250 गरीब परिवारों पर स्थानीय पुलिस-प्रशासन ने जमकर कहर ढ़ाया। इन परिवारों का कसूर सिर्फ इतना था कि ये 150 साल से पी...
डा.राजेंद्र तेला निरंतर
11
अजीबो गरीब है ये इंसानों की दुनिया अजीबो गरीब है ये इंसानों की दुनिया चंद लोगों को ही मिलती है धन दौलत सर छुपाने को कोठियांबीत जाती है झोंपड़ी फुटपाथ पर ज़िंदगियाँ ना दो वक़्त रोटी का पताना खेलने को मैदान बचपन में बुढ़ापा देख लेती हैं ज़िंदगियाँ बीमारी में सांस लेते लेत...
डा.राजेंद्र तेला निरंतर
11
किसे याद रहती हैं सिसकी गरीब की किसे याद रहती हैंसिसकी गरीब की किसने समझी  हैज़िन्दगी गरीब की किसने खाई हैरोटी गरीब कीकिसने पौछी हैअश्रुधारा गरीब की किसने भुगती है त्रासदी गरीब की किसने महसूस करीलाचारी गरीब की किसने देखी हैझोपडी गरीब कीकिसने लड़ी है लड़ाई गर...
 पोस्ट लेवल : गरीब गरीबी
Akanksha Yadav
118
एक तरफ हम 21 वीं सदी में अंतरिक्ष नापने से लेकर हाईटेक व्यक्तियों और स्मार्ट सिटी की बात कर रहे हैं, वहीँ इसी भारत देश में ऐसी घटनाएँ भी हो रही हैं कि सारी मानवता तार-तार हो जाती है। उत्तर प्रदेश के मऊ जनपद के रानीपुर के नगपुर गांव में खाना बनाते समय पत्नी का पल्लू...