दर्द ३९००शहीद जाँबाज़ जवानों कासीने में उभर आयासंजीदा साये सिहर उठे होंगे उनके भी मौजूदा हालात देख देश केशिथिल शब्दों में हुई होगी गहमागहमी उनके भीआपस में वे भी बोल उठे होंगेक्यों किया तकल्लुफ़ चीख़ते सन्नाटे नेक्यों सुनाया संदेश सर्द हवाओं नेयही एहसासात&nbs...