ब्लॉगसेतु

रविशंकर श्रीवास्तव
4
तीन गजलें राकेश भ्रमर एकसांप बनकर आदमी जीता रहा.ज़िंदगी भर विष वमन करता रहा. मौत उसको देखकर हैरान थी,वह मुखौटों पर सदा जीता रहा. दर्द की उसको बहुत पहचान थी,दूसरों के घाव पर हंसता रहा. भाग्य रेखाएं बहुत बलवान थीं,दांव उलटे पर सदा चलता रहा. जब कभी वह बस्तियों में आ...
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें कविता
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें समीक्षा आलेख
jaikrishnarai tushar
529
लोकप्रिय शायर मेराज फैज़ाबादी जन्म -02-01-1941 से 30-11-2013हम ग़ज़ल में तेरा चर्चा नहीं होने देते तेरी यादों को भी रुसवा नहीं होने देते मुझको थकने नहीं देता ये जरूरत का पहाड़ मेरे बच्चे मुझे बूढ़ा नहीं होने देते --------मोहब्बत को मेरी पहच...
jaikrishnarai tushar
131
सम्पर्क -09869487139भारत सरकार द्वारा मशहूर शायर निदा फ़ाज़ली को गणतन्त्र दिवस के मौके पर पद्मश्री सम्मान से सम्मानित किया जाना केवल निदा फ़ाज़ली का सम्मान नहीं वरन यह भारतीय संस्कृति ,हमारी गंगा -जमुनी तहजीब को भी सम्मान मिला है |निदा फ़ाज़ली आधुनिक उर्दू शायरी के...
jaikrishnarai tushar
529
लोकप्रिय शायर अदम गोंडवीसमय [22-10-1947 से 18-12-2011]खुदी सुकरात की हो याकि हो रुदाद गाँधी की सदाक़त ज़िन्दगी के मोर्चे पर हार जाती है फटे कपड़ों से तन ढांके गुज़रता हो जहाँ कोई समझ लेना वो पगडण्डी अदम के गाँव जाती है       &nbsp...
jaikrishnarai tushar
529
लोकप्रिय शायर प्रोफ़ेसर वसीम बरेलवी सम्पर्क -09412485477जहाँ रहेगा वहीँ रौशनी लुटायेगा किसी चराग़  का अपना मकां नहीं होता ......अपनी सूरत से ये ज़ाहिर है छुपायें कैसे तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आयें कैसे .....वह मेरे घर नहीं आता ,मैं...