ब्लॉगसेतु

रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें व्यंग्य
रविशंकर श्रीवास्तव
3
कुमार कृष्णन समकालीन हिन्दी ग़ज़ल आज जिस भाव और कथ्य को लेकर आगे बढ़ रही है,वह हिन्दी कविता के लिए उत्साहवद्धक है। हिन्दी में ग़ज़ल के प्रवेश से हिन्दी कविता जो पठनीयता के संकट से जूझ रही थी, उस संकट को तोड़ने में हिन्दी ग़ज़ल को काफी हद तक सफलता मिली है। हिन्दी ग...
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें समीक्षा
रविशंकर श्रीवास्तव
3
तीन गजलें राकेश भ्रमर एकसांप बनकर आदमी जीता रहा.ज़िंदगी भर विष वमन करता रहा. मौत उसको देखकर हैरान थी,वह मुखौटों पर सदा जीता रहा. दर्द की उसको बहुत पहचान थी,दूसरों के घाव पर हंसता रहा. भाग्य रेखाएं बहुत बलवान थीं,दांव उलटे पर सदा चलता रहा. जब कभी वह बस्तियों में आ...
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें कविता
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें समीक्षा आलेख
jaikrishnarai tushar
823
लोकप्रिय शायर मेराज फैज़ाबादी जन्म -02-01-1941 से 30-11-2013हम ग़ज़ल में तेरा चर्चा नहीं होने देते तेरी यादों को भी रुसवा नहीं होने देते मुझको थकने नहीं देता ये जरूरत का पहाड़ मेरे बच्चे मुझे बूढ़ा नहीं होने देते --------मोहब्बत को मेरी पहच...
jaikrishnarai tushar
187
सम्पर्क -09869487139भारत सरकार द्वारा मशहूर शायर निदा फ़ाज़ली को गणतन्त्र दिवस के मौके पर पद्मश्री सम्मान से सम्मानित किया जाना केवल निदा फ़ाज़ली का सम्मान नहीं वरन यह भारतीय संस्कृति ,हमारी गंगा -जमुनी तहजीब को भी सम्मान मिला है |निदा फ़ाज़ली आधुनिक उर्दू शायरी के...