ब्लॉगसेतु

रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता प्राची ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
ग़ज़ल - १ ०डॉ. राम गरीब ‘विकल' सीधी (म.प्र.), भारतवादों की ये बरसात, है काफ़ी नहीं। घड़ियाल का दृगपात, है काफ़ी नहीं। गिनती करानी चाहिए, उपजाति की, वोटर की, केवल जात, है काफ़ी नहीं।मालूम है मुझको, दिये के सामने, कोई अँधेरी रात, है काफ़ी नहीं।तू और कोई दाँव, मुझ पर आजमा,...
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता ग़ज़लें
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता ग़ज़लें