ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
4
ॐ पुरोवाक आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*विश्ववाणी हिंदी का साहित्य सृजन विशेषकर छांदस साहित्य इस समय संक्रमण काल से गुजर रहा है। किसी समय कहा गया था -  सूर सूर तुलसी ससी, उडुगन केसवदास अब के कवि खद्योत सम जहँ-तहँ करात प्रकास जिन्हें '...
 पोस्ट लेवल : गीतिका आकुल पुरोवाक
sanjiv verma salil
4
बाल गीत:बरसे पानीसंजीव 'सलिल'*रिमझिम रिमझिम बरसे पानी.आओ, हम कर लें मनमानी.बड़े नासमझ कहते हमसेमत भीगो यह है नादानी.वे क्या जानें बहुतई अच्छालगे खेलना हमको पानी.छाते में छिप नाव बहा ले.जब तक देख बुलाये नानी.कितनी सुन्दर धरा लग रही,जैसे ओढ़े चूनर धानी.काश कहीं झूला...
 पोस्ट लेवल : varsha वर्षा bal geet बालगीत
sanjiv verma salil
4
नवगीत:आओ! तम से लड़ें...संजीव 'सलिल'*आओ! तम से लड़ें,उजाला लायें जग में...***माटी माता,कोख दीप है.मेहनत मुक्ताकोख सीप है.गुरु कुम्हार है,शिष्य कोशिशें-आशा खूनखौलता रग में.आओ! रचते रहेंगीत फिर गायें जग में.आओ! तम से लड़ें,उजाला लायें जग में...***आखर ढाईपढ़े न अब तक.अ...
 पोस्ट लेवल : नवगीत navgeet
sanjiv verma salil
4
नवगीत :संजीव *संसद की दीवार पर दलबन्दी की धूल राजनीति की पौध परअहंकार के शूल*राष्ट्रीय सरकार कीहै सचमुच दरकारस्वार्थ नदी में लोभ कीनाव बिना पतवारहिचकोले कहती विवशनाव दूर है कूललोकतंत्र की हिलातेहाय! पहरुए चूल*गोली खा, सिर कटाकरतोड़े थे कानूनक्या सोचा...
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : बाल कथा बालगीत बालकथा
sanjiv verma salil
4
आज विशेषकरवट ले इतिहास*वंदे भारत-भारतीकरवट ले इतिहासहमसे कहता: 'शांत रह,कदम उठाओ ख़ास*दुनिया चाहे अलग हों, रहो मिलाये हाथमतभेदों को सहनकर, मन रख पल-पल साथदेश सभी का है, सभी भारत की संतानचुभती बात न बोलिये, हँस बनिए रस-खानन मन करें फिर भी नमन,अटल...
 पोस्ट लेवल : गीत दोहा इतिहास कश्मीर
sanjiv verma salil
4
नवगीत *बारिश तो अब भी होती है लेकिन बच्चे नहीं खेलते. *नाव बनाना कौन सिखाये?बहे जा रहे समय नदी में.समय न मिलता रिक्त सदी में.काम न कोईकिसी के आये.अपना संकट आप झेलतेबारिश तो अब भी होती हैलेकिन बच्चे नहीं खेलते.*डेंगू से भय-भीत सभी हैं.नहीं भरोसा...
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : बाल कथा बालगीत बालकथा
sanjiv verma salil
4
नवगीत *तन पर पहरेदार बिठा दो चाहे जितने, मन पाखी कोकैद कर सकेकिसका बूता?*तनता-झुकताबढ़ता-रुकतातन ही हरदम।हारे ज्ञानीझुका न पायेमन का परचम।बाखर-छानीरोक सकी कबपानी चूता?मन पाखी कोकैद कर सकेकिसका बूता?*ताना-बानाबुने कबीराढाई आखर।ज्यों की त्यों हीधर...
 पोस्ट लेवल : नवगीत