ब्लॉगसेतु

Krishna Kumar Yadav
421
अकड़-अकड़ करक्यों चलते होचूहे चिंटूराम,ग़र बिल्ली नेदेख लिया तोकरेगी काम तमाम,चूहा मुक्का तान कर बोलानहीं डरूंगा दादीमेरी भी अब हो गई हैइक बिल्ली से शादी।-दीनदयाल शर्मा
अविनाश वाचस्पति
132
तेताला पर मेरी पहली चिट्ठा चर्चा … चलते हैं सीधे लिंक्स की तरफ …मीनाक्षी पन्त जी की कोमल भावों  से गुंथी खूबसूरत कविता -- वो गहरी रात का सायाअनिता निहलानी  जी ने एक शृंखला  प्रारम्भ की हुयी है .. भगवदगीता का भावानुवादप्रतिभा सक्सेना जी की “ नचारी “...
Krishna Kumar Yadav
437
'सप्तरंगी प्रेम' ब्लॉग पर आज प्रेम की सघन अनुभूतियों को समेटती अनामिका घटक का एक प्रेम-गीत . आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा...कतरा-कतरा ज़िंदगी कापी लेने दोबूँद बूँद प्यार मेंजी लेने दोहल्का-हल्का नशा हैडूब जाने दोरफ्ता-रफ्ता “मैं” मेंरम जाने दोजलती हुई आग कोबु...
 पोस्ट लेवल : अनामिका घटक गीत
अरुण कुमार निगम
656
आई लव यू.........आई लव यू....तयं बोल रे मिट्ठू , आई लव यू....तपत कुरु के     गये  जमाना बोल रे मिट्ठू -      आई लव यू..... राम-राम के बेरा -मा, भेंट होही  तो गुड मार्निंग कहिबेए जी,ओ जी झन कहिबे,कहिबे तो हाय डार्लिंग क...
Krishna Kumar Yadav
437
'सप्तरंगी प्रेम' ब्लॉग पर आज प्रेम की सघन अनुभूतियों को समेटता यशोधरा यादव ‘यशो‘ का एक गीत. आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा...आपके दामन से मेरा, जन्म का नाता रहा है ,प्यार की गहराइयों का, राज बतलाता रहा है।मौन मत बैठो कहो कुछ, आज मौसम है सुहाना,कलखी धुन ने बजाया...
अरुण कुमार निगम
656
अइसन मिलिस मया सँग पीरापीरा सँग मया होगेपथरा ला पूजत-पूजत माहिरदे मोर पथरा होगे.महूँ सजाये रहेंव नजर मा सीस महल के सपना ला अइसन टूटिस सीस महल के आँखी मोर अँधरा होगे.सोना चाँदी रूपया पइसा गाड़ी बंगला के आगू मया पिरित अउ नाता रिस्ताअब माटी - धुर्रा होगे.किरिया खाके...
jaikrishnarai tushar
807
कवि -कौशलेन्द्र सम्पर्क -09839059139डॉ० शम्भुनाथ सिंह ने नवगीत दशक और नवगीत अर्धशती में जिन महत्वपूर्ण कवियों को प्रकाशनार्थ चुना था उन सभी कवियों ने आगे चलकर गीत विधा को और हिन्दी कविता को अपनी लेखनी से समृद्ध किया |उन्हीं नवगीतकारों में एक प्रमुख कवि है कौशल...
Krishna Kumar Yadav
437
मैं बुलाती रह गई, पर प्राण मेरे तुम न आये।नयन-काजल धुल गए हैंअश्रु की बरसात सेनींद आती है नहीं-मुझको कई एक रात सेतिलमिला उर रह गया, पर प्राण मेरे तुम न आये।तोड़ कर यूँ प्रीत-बंधनचल पड़े क्यों दूर मुझसेतुम कदाचित हो उठे थे-पूर्णतः मजबूर मुझसेमैं ठगी सी रह गयी, पर प्रा...
 पोस्ट लेवल : गीत बच्चन लाल बच्चन
jaikrishnarai tushar
807
कवि वसु मालवीय [समय -10-11-1965से 16-05-1997]कवि वसु मालवीय की पुण्य तिथि 16 मई पर विशेष प्रस्तुति  कवि /कथाकार वसु मालवीय का जन्म 10 नवम्बर 1965 को कानपुर में हुआ था |पिता उमाकांत मालवीय से साहित्यिक संस्कार ग्रहण कर वसु ने बहुत छोटी उम्र में अपनी राष्ट्रीय उ...
jaikrishnarai tushar
807
कवि -कुमार रवीन्द्रसम्पर्क -09416993264नबाबों के शहर लखनऊ में जन्म ,शिक्षा अंग्रेजी में अध्यापन अंग्रेजी में लेकिन मन ,वचन और कर्म से हिन्दी गीत और साहित्य को समर्पित कवि का नाम है कुमार रवीन्द्र |हमारे देश में  कई ऐसे शिखर पुरुष हुए हैं जिन्होंने शिक्षा और पठ...