ब्लॉगसेतु

Ravindra Pandey
480
लाल, हरा, नीला, पीला, निखर रहे हैं रंग।मस्तानों की टोलियाँ,  फ़ाग में हुए मलंग।।भर पिचकारी घूम रहे,  बच्चे  चारों ओर।अनायास  बौछार  से,  राहगीर  सब दंग।।स्वप्नपरी के रूप में,  झूमें  हैं  चाचा आज।चाची गुझिया खिला रही...
ANITA LAGURI (ANU)
424
हर शाख़ पर उल्लू बैठा हैहर शख़्स  यहां कीचड़ से मैला हैक्या रंग क्या गुलाल खेलूंहर चमन में शातिर शागिर्द बैठा हैतुम बात करते हो मकानों कीयहां हर घर बेज़ुबानों से दहला हैपंख लगाकर क्या उड़े चिड़ियाहर सैय्यद  पंख कतरने   बैठा हैजिस्म में थरथराहट...
मधुलिका पटेल
538
वो खाकी शर्ट पर अब भी निशाँ होंगे पिछली होली केवो अबीर का गुब्बार रंग कर चला गया था तुम्हे रंगो का इंद्रधनुष बिखेर गया था ख़ुशी गुलाल का रंग दहकते गालों में खो गया था तुम्हे रंगों की पहचान जो गहराइयों से थी अब के बर...
Kailash Sharma
182
दुख दर्द दहन हो होली में,हो रंग ख़ुशी के होली में।तन मन आंनदित हो जाये,जब रंग उड़ेंगे होली में।सब भेद भाव मिट जायेंगे,जब गले मिलेंगे होली में।जब पिया गुलाल लगायेंगे,तन मन सिहरेगा होली में।मन से मन का जब रंग मिले,तन रंग न चाहे होली में।...©कैलाश शर्मा 
रवीन्द्र  सिंह  यादव
243
आयी   राम    कीअवध   में    होली ,छायी  कान्हा  कीबृज    में   रंगोली।पक   गयी  सरसोंबौराये    हैं   आम,मनचलों  को  अबसूझी   है  ठिठोली।छायी   कान्हा  कीबृ...
गायत्री शर्मा
329
लो आ गयी शरारतों वाली होली पिचकारियों के छिटो संग दोस्तों संग मौज-मस्ती और हँसी-ठिठौलीलो आ गयी ...किसी ने गालों पर मल दिया गुलाल मित्रता के चटक रंग से, मस्ती की भंग से तन-मन हुआ, हरा-पीला, गुलाबी-लाल निकली आज तंग गलियों में वही पुरानी टोली&...
 पोस्ट लेवल : poem gayatri गुलाल रंग होली holi
Bhavna  Pathak
82
लटके है सिर तलवार तो क्या खाक है होलीहो एग्जाम का बुखार तो क्या खाक है होलीफिजिक्स केमेस्टी के साथ साथ मैथ भीकोड़े रही हो मार तो क्या खाक है होलीखुशियों को लगा है गहन दुश्मन बना एग्जामछाती पर है सवार तो क्या खाक है होलीबाहर है रंग गुलाल फाग और घर पे हमबैठे हैं मन क...
Kailash Sharma
461
एक बार फिर होली आयी,खुशियों की सौगात है लाई.नीले पीले लाल गुलाबी,चारों ओर रंग बिखरे हैं.रंग में छुपे हुए चेहरों पे नए नए भाव निखरे हैं.भेदभाव हैं सब छुप जाते, जब गुलाल प्रेम से लगता.मिट जाते हैं सब शिकवे,जब है मित्र गले से लगता.गले लगाओ आज प्रेम से,सब के साथ मिठाई...
Sandhya Sharma
229
बिरज में आज होली रे भाई सखियों संग नाचे रे राधिकाखेलत फाग अबीर हिलमिल ग्वालन संग  कुवंर कन्हाईबिरज में आज होली रे भाई …बाजत ताल मृदंग झांझ डफमंजीरा संग गुंजत शहनाईउड़त गुलाल लाल भए बदराभई केसर रंग की छिड़काईबिरज में आज होली रे भाई …अबीर गुलाल हाथ पिचका...
मुकेश कुमार
208
होली का पर्व है अलबेलाहै मस्ती भरा!!जब भी आती है ये मनभावन होली आता है याद गाँव का कीचड़, साथ में गोबर, मिट्टी राख़ भी ... जब भी आती है ये स्वादिष्ट होली आता है मुंह में पानी क्योंकि बनते ये घर घर में मालपूआ, दहीबड़ा, गुजिया और बहुत से पकवान जब भी आती है ये रोमांचक हो...