ब्लॉगसेतु

अजय  कुमार झा
268
नन्हीं गोरैया कुकू कल शाम तो दिल्ली में बहुत ही तेज़ बारिश हुई , हवा भी उतनी ही तेज़ होने के कारण और ज्यादा मारक साबित हुई | बारिश से हुए जलभराव ने कितना ताण्डव मचाया ये कहने सुनने की जरूरत नहीं | मगर अचानक ही बालकनी में पानी निकालते समय ,अचानक ही इस नन्हीं गोरै...
मुकेश कुमार
209
क्लिक क्लिक क्लिक!कैमरे के शटर का क्लिकतीन अलग अलग क्षणसहज समेटे हुए परिदृश्य !पहली तस्वीरपूर्णतया प्राकृतिक व नैसर्गिककल कल करती जलधाराचहचहाती चिरैया, फुदकती गोरैयादूर तक दिखती हरियालीडूबता दमकता गुलाबी सूरजपैनोरमा मोड़ मेंखिंची गयी कैमरे की क्लिक !!दूसरा था कोलाजए...
शिवम् मिश्रा
18
आदरणीय ब्लॉगर मित्रों सादर नमस्कारआज प्रस्तुत है एक नई कहानी उम्मीद है आपको आजकल ये अंक पसंद आएगा | प्रस्तुत है आज का बुलेटिन |"ओ हो माँ ! रुको तो सही, मैं आ रही हूँ ना | ऐसी भी क्या जल्दी है ?""बेटी जल्दी नहीं है तेरे पापा के खाने का समय हो रहा है इसलिए खाना तैयार...
राजीव कुमार झा
348
आज फिर सेयह कहने कोदिल कह रहाहै 'मेरे घरआना गोरैया,फिरसे दाना चुननागोरैया'.बचपन के दिनभी क्या दिनथे जब गोरैयाकी चहचहाहट सेसुबह की नींदखुल जाती थी.सुबह उठतेही आँगन  मेंइधर -उधर फुदकती,गिरे अनाजोंको चुनती गोरैयादिख जाती थी. गांवों,घरों केआँगन में...
 पोस्ट लेवल : पक्षी गोरैया