ब्लॉगसेतु

Rajeev Upadhyay
362
घर से निकले तो हो सोचा भी किधर जाओगेहर तरफ़ तेज़ हवाएँ हैं बिखर जाओगे।इतना आसाँ नहीं लफ़्ज़ों पे भरोसा करनाघर की दहलीज़ पुकारेगी जिधर जाओगे।शाम होते ही सिमट जाएँगे सारे रस्तेबहते दरिया से जहाँ होगे ठहर जाओगे।हर नए शहर में कुछ रातें कड़ी होती हैंछत से दीवारें जुदा ह...
Rajeev Upadhyay
362
ज़िन्दगी से बड़ी सज़ा ही नहीं, और क्या जुर्म है पता ही नहीं।इतने हिस्सों में बट गया हूँ मैं, मेरे हिस्से में कुछ बचा ही नहीं| ज़िन्दगी! मौत तेरी मंज़िल है दूसरा कोई रास्ता ही नहीं।सच घटे या बड़े तो सच न रहे, झूठ की कोई इन्तहा ही नहीं।ज़िन्द...
Rajeev Upadhyay
362
धूप में निकलो घटाओं मेंनहाकर देखोज़िन्दगी क्या है, किताबों कोहटाकर देखो।सिर्फ आँखों से ही दुनियानहीं देखी जाती दिल की धड़कन को भी बीनाईबनाकर देखो।पत्थरों में भी ज़बां होती हैदिल होते हैंअपने घर के दरो-दीवार सजाकर देखो।वो सितारा है चमकने दोयूं ही आँखों मेंक्य...
Rajeev Upadhyay
362
ऐसा लगता है ज़िन्दगी तुम होअजनबी जैसे अजनबी तुम हो।अब कोई आरज़ू नहीं बाकीजुस्तजू मेरी आख़िरी तुम हो।मैं ज़मीं पर घना अँधेरा हूँआसमानों की चांदनी तुम हो।दोस्तों से वफ़ा की उम्मीदेंकिस ज़माने के आदमी तुम हो।---------------------बशीर बद्रसाभार: कविता कोश
 पोस्ट लेवल : गज़ल बशीर बद्र
125
आज आजाद हुआ भारत ----आज की ग़ज़ल -गज़लोपनिषद ---=============================================******काशी से नरेंद्र भाई मोदी , प्रधान मंत्री भारत सरकार का आह्वान व उद्घोष -----का मूल मन्त्र ---१. कार्य में पारदर्शिता व परिश्रम का समन्वय डा श्याम  २.कार्य...
VMWTeam Bharat
107
वह पायल नहीं पहनती पांव में बस एक काले धागे से कहर बरसाती हैउसकी यही अदा तो 'निल्को'मुझे उसका दीवाना बनाती हैबहुत मजे से इठलाती है गूढ़ व्यंग की मीन बहुत बनाती हैमाथे पर जब बिंदी लगाती हैतो पूरे विश्व को सुंदर बनाती है'मधुलेश' का ख्याल आए तोवह भी कविता बन...
Kailash Sharma
175
यादों में जब भी हैं आती बेटियां,आँखों को नम हैं कर जाती बेटियां।आती हैं स्वप्न में बन के ज़िंदगी,दिन होते ही हैं गुम जाती बेटियां।कहते हैं क्यूँ अमानत हैं और की,दिल से सुदूर हैं कब जाती बेटियां।सोचा न था कि होंगे इतने फासले,हो जाएंगी कब अनजानी बेटियां।होंगी कुछ तो म...
Kailash Sharma
175
कुछ दर्द अभी तो सहने हैं,कुछ अश्क़ अभी तो बहने हैं।मत हार अभी मांगो खुद से,मरुधर में बोने सपने हैं।बहने दो नयनों से यमुना,यादों को ताज़ा रखने हैं।नींद दूर है इन आंखों से,कैसे सपने अब सजने हैं।बहुत बचा कहने को तुम से,गर सुन पाओ, वह कहने हैं।कुछ नहीं शिकायत तुमने की,यह...
VMWTeam Bharat
107
सारे  कौरव  हुए  इकट्ठे, नीचों  का  गठबंधन है &#...
VMWTeam Bharat
107
ज़िंदगी तेरे नख़रे भी हजार है क्यों तुम्हे दर्द से इतना प्यार है कलम लिखने को बहुत बेक़रार है क्योंकि इश्क खुद ही आज बीमार है ज़िंदगी तेरे नख़रे भी हजार हैप्रकृति ने खुद किया तुम्हारा शृंगार है उनकी चाहत भी बेशुमार है मैसेज के साथ साथ...