ब्लॉगसेतु

अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैयह काशी अविनाशी साधोनिर्वासित सिया समय बड़ा विकरालकोरोना : एक चुनौती लॉकडाउन में किताबेंएकान्तकोरोना साँसें पूछ रहीं हाल प्रियेसहज रूप से ग्राह्य कविताओं का संग्रहजीवन मन्त्र संध्या राग श्वास रहित है तन...
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैचंदा और सूरज गीत का व्याकरण होली नितांत शून्य में खोजूँकाग़ज़ के खेतकह्मुकरियां क़रीब उनके आने के दिन आ रहे हैंप्रदूषित हो रही गंगा के प्रति चिंता दिखाता संग्रहअधिकार जंग छिड़ी है कुर्सी कीबस यूँ ही...कोरो...
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैकानों में इश्क घोल देती हैं हस्‍तीमल हस्‍ती की गज़लेंइन्सानी भगवानों मेंफर्क कहां है लघु कविताएँ मन की गति कोई न जानेदिलदार एक छोटी-सी लड़की अर्द्धशतकसमीक्षा पुस्तक नारी बरसाने की लठामार होलीफेसबुक&...
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैआदिम रात्रि की महक को रचने वाले ‘रेणु’ जी श्रम से सभी सफलता पातेटेसू के फूलजो जागा वो सूरज बनता है&भोले भले होमैं कुछ कुछ भूलता जाता हूँ अबप्रतिध्वनिलक्ष्मी आई हैपिता परिवार की धुरीगुलाब के फूल के औषधीय गुण बहुत ख...
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैबन्द करो मनुहारतंग गलियारे फ़ाज़िल हुस्नु दगलार्चा की कविताएँटूटा घर तेरी महफिल में ओ कविता जीवन के सहज उपलब्ध विषयों पर रची गई लघुकथाएँनदी का बांध हो जानाकविता बीज रोप दे बंजर मेंसमीक्षा पुस्तक कि...
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है बच्चों अब मत समय गँवाओप्रेम कुल्हाड़ी धरा का श्रृंगार उधार बाकी है ये ज़रूरी तो नहीं आओगे के न आओगोएनआरसी का भय"मदर इन लव"अद्धभुत पलसतसई काव्य परम्परा की महत्वपूर्ण कृतिलाल मिर्च का भरवां अचार बनाने...
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैआलिंगन/चुम्बन दिवसक़लम बेजुबान पंछी एक विनम्र घुटन फिर होगा मौसम ख़ुशगवार, इंतज़ार करनावैलेंटाइन डे का अनमोल गिफ़्टप्रीति का येर कैसा रंग जाने क्यों मन वसंतलिखना पढ़ना है कठिनजनवरी माँ की गोद हैबुझ रही है शा...
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैनमन माँ शारदे मैं ज्ञान मांगता हूँ माँ मेधा से भर दो झोली अनु की कुण्डलियाँमधुमास हर किसी को साहिल न मिले हैपत्थर हम रोज थोड़ा मरते हैं थोड़ा जीते हैंअंतिम शब्द तेरे समझना जरूरी नहीं होता है हमेशा पा...
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैयह उपवन आजादकुमार अम्बुज की कविताएँबिक रहे हैं लोग सरेआम दोपहर मेंलघु कविता-संग्रहजो तुम चाहो दिल समाधि का फूल जीवन-उतने ही दिनड्राइविंग की एबीसीबसंत तुम लौट आये होजीवन का जो लक्ष्य साध लेछल गणतंत्र दिवसधन्य...
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैत्योहारों की गठरी एक अभाव की जिन्दगीसफेदपोशी चाँद का घर है आसमां मौन के भी शब्द होते हैं.खंजना सरमा की कविताएं अंधा बांटे सहजतानवगीतबचपन की पतंग शिकस्ता दिल मानसिक स्वास्थ्य की चिंतनीय स्थितिय...