ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
0
मुक्तक चाँद तनहा है ईद हो कैसे? चाँदनी उसकी मीत हो कैसे??मेघ छाये घने दहेजों के, रेप पर उसकी जीत हो कैसे?? *कोशिशें करती रहो, बात बन ही जायेगीजिन्दगी आज नहीं, कल तो मुस्कुरायेगीहारते जो नहीं गिरने से, वो ही चल पाते-मंजिलें आज नहीं कल तो रास आयें...
sanjiv verma salil
0
एक गीत *चाँदनी में नहाचाँदनी महमहारात-रानी हुईकुछ दीवानी हुई*रातरानी खिलीमोगरे से मिलीहरसिंगारी ग़ज़लसुन गया मन मचलदेख टेसू दहाचाँदनी में नहा*रंग पलाशी चढ़ाकुछ नशा सा बढ़ाबालमा चंपईतक जुही मत मुईछिप फ़साना कहाचाँदनी में नहा*२९-६-२०१६http://divyanarmada.blogspot.in/
 पोस्ट लेवल : गीत चाँदनी
jaikrishnarai tushar
0
चित्र -साभार गूगल एक प्रेम गीत -जिसे देखा चाँद था या ----मन्दिरों की सीढ़ियों पर आ रहा है याद कोई |जिसे देखा चाँद था या चाँद का अनुवाद कोई |आरती के दिये  जैसी एक जोगन सांध्य बेला ,खिलखिलाते फूल के वन और इक भौरा...
Manav Mehta
0
मैं कुछ कुछ भूलता जाता हूँ अबमेरी ख़्वाहिशें, मेरी चाहतमेरे सपने, मेरे अरमानमैं कुछ कुछ भूलता जाता हूँ अब...देर शाम तक छत पे टहलनाडूबते सूरज से बातें करनानीले कैनवस पर रंगों का भरनामैं कुछ कुछ भूलता जाता हूँ अब...किताबों के संग वक़्त बितानाहर शायरी पे 'वाह' फ़रमानाहर...
अनीता सैनी
0
चाँद सितारों से पूछती हूँ हाल-ए-दिल,  ज़िंदा जल रहे  हो परवाने की तरह ! मरणोपरांत रोशनी आत्मा की तो नहीं,    क्यों थकान मायूसी की तुम पर नहीं आती |हार-जीत का न इसे खेल समझो,  अबूझ पहेली बन गयी है ज़िंदगी, शमा-सी जल रह...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
0
तिमिर भय नेबढ़ाया हैउजास से लगाव,ज्ञानज्योति नेचेतना से जोड़ातमस कास्वरूपबोध और चाव।घुप्प अँधकार मेंअमुक-अमुक वस्तुएँपहचानने का हुनर,पहाड़-पर्वतकुआँ-खाईनदी-नालेअँधेरे में होते किधर?कैसी साध्य-असाध्यधारणा है अँधेरा,अहम अनिवार्यता भी हैसृष्टि में अँधेरा।कृष्णपक्ष कीविकट...
जेन्नी  शबनम
0
चाँद (चाँद पर 10 हाइकु)   *******   1.   बिछ जो गई   रोशनी की चादर   चाँद है खुश।   2.   सबका प्यारा   कई रिश्तों में दिखा   दुलारा चाँद।   3.   सह न सका&n...
 पोस्ट लेवल : हाइकु चाँद
Sandhya Sharma
0
करवा चौथमैं यह व्रत करती हूँअपनी ख़ुशी सेबिना किसी पूर्वाग्रह केकरती हूँ अपनी इच्छा सेअन्न जल त्यागक्योंकि मेरे लिएयह रिश्ता ....इनसे भी ज़्यादा महत्वपूर्ण हैमेरे लिए यह उत्सव जीवन मेंउस अहसास की ख़ुशी व्यक्त करता हैकि उस ख़ास व्यक्ति के लिएमैं भी उतनी ही ख़ास हूँमैं उल...
अनीता सैनी
0
पावन प्रीत के सुन्दर सुकोमल सुमन, सुशोभित स्नेह से करती साल-दर-साल,  अलंकृत करती है हृदय में प्रति पल वह,  फिर यादों का कलित मंगलमय थाल |  बाती बना जलाती साँसें कोअखंड ज्योति-सी, जीवन में प्...
0
हिन्दी साहित्य काउभरता हुआ युवा सिताराअमन चाँदपुरी नहीं रहा...*****************मेरे लिए यह व्यक्तिगत क्षति है।11 अप्रैल, 2016 कौ मैंनेखटीमा में आयोजित दोहाकार समागम मेंउन्हें “दोहा शिरोमणि से अलंकृत किया था।*****************श्रद्धांजलि स्वरूप उन्हीं की एक क्षणिक...