ब्लॉगसेतु

PRAVEEN GUPTA
0
चाय वाले की बेटी बनी फ्लाइंग ऑफिसरचाय बेचकर पिता ने कराया बेटी का सपना पूरा, अब उड़ाएंगी भारतीय वायुसेना का फाइटर प्लेनमध्य प्रदेश के नीमच की 24 वर्षीय आंचल गंगवाल ने भारतीय वायुसेना की उड़ान शाखा में चयन पाकर घरवालों का नाम रौशन कर दिया है। आंचल के पिता नीमच बस अड...
kumarendra singh sengar
0
चीनी उत्पादों के खिलाफ भारत में एक आन्दोलन सा खड़ा होता दिखने लगा है. अगर यह आंदोलन चीन के विरुद्ध सफल हो जाता है तो भारत को इसके अनेक दीर्घकालिक लाभ होंगे. इसमें पहला लाभ तो चीन को भारत से होने वाले राजस्व में जबरदस्त कमी आएगी. यह कमी लगभग 5 लाख करोड़ रुपये तक के ह...
विजय राजबली माथुर
0
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं
अजय  कुमार झा
0
इस बीच खबर ये आ रही है कि , नराधम ,कृतघ्न ,लालची और महास्वार्थी धूर्त देश चीन के विरुद्ध विश्व भर के देश लामबंद हो रहे हैं . अंतर्राष्ट्रीय अदालत में अब तक अलग अलग कुल सात देशों ने वाद संस्थापित कर दिए हैं और अमेरिका ब्रिटेन जापान दक्षिण कोरिया जैसे देशों ने चीन को...
मुकेश कुमार
0
जिंदगी कितनी कमीनी है, कितनी डरी हुई है और कितना परेशान करती है। देर रात, गले में पता नहीं क्या अटका, एक हल्का सा दर्द पूरे शरीर को सिहराने के लिए काफी था। फिर तो सारा दिमाग अगले क्षण से लेकर अगले बरसो तक का खाका खींचते चला गया, जिसमें हम नहीं थे व दुनिया बेनूर हो...
सुशील बाकलीवाल
0
      एक अनुभवी चित्रकार ने अपनी समझ के अनुसार प्रकृति का एक अत्यंत खूबसूरत चित्र बनाया फिर यह सोचकर कि लोगों को इसमें क्या कमी दिख सकती है उस चित्र को एक तूलिका और रंगों की प्लेट के साथ यह नोट लगाकर रख दिया कि यदि आपको इसमें कोई कमी दिखे तो कृपया उस...
मुकेश कुमार
0
चाय के मीठे घूंट की शुरुआत मैया के पल्लू को दांतों में दबाये, उसके होंठों से लगे स्टील के ग्लास को उम्मीदों के साथ ताकने से हुई। फिर ये रूटीन कब फिक्स हो गया याद नहीं कि मैया के चाय के ग्लास के अंतिम कुछ घूंट पर मुक्कू का नाम रहेगा। शायद कभी एक दो बार मैया से गलती...
kumarendra singh sengar
0
आज 15 दिसम्बर को अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस मनाया जा रहा है. इसका मुख्य लक्ष्य चाय बागान से लेकर चाय की कंपनियों तक में काम करने वाले श्रमिकों की स्थिति की ओर ध्यान आकर्षित करना है. वर्ष 2004 में मुंबई में व्यापार संघों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों की बैठक हुई. उसमें अंत...
ANITA LAGURI (ANU)
0
"वाह...!  क्या जादू है तुम्हारे हाथों में,तुम्हारे हाथों से बनी चाय पीकर तो लगता है कि जन्नत के दर्शन हो गये।  सच कहता हूँ सुधा, शादी की पहली सुबह और आज 50 साल बीत जाने के बाद भी तुम्हारे हाथों की बनी चाय में कोई फ़र्क़ नहीं आया।" श्याम जी कहते-कह...
सुशील बाकलीवाल
0
                               एक 36 वर्षीय भाई को कैंसर हुआ, जो लास्ट स्टेज पर था । उन्होंने अपनी अब तक की उम्र में ना...