ब्लॉगसेतु

हर्षवर्धन त्रिपाठी
83
मेरी आदत है कि मैं हर वक्त समाज समझने की कोशिश करता रहता हूं। और ये अनायास है। इसके लिए मुझे कोई प्रयत्न नहीं करना पड़ता। एक दशक पहले शुरू हुई ब्लॉगिंग ने मुझे मंच भी दे दिया। अभी मैं तिरुपति दर्शन के लिए गया था, चेन्नई होकर। संयोग से वो समय सरकारी हिन्दी पखवाड़े क...
हर्षवर्धन त्रिपाठी
83
#हिन्दीदिवस ये चेन्नई की एक सड़क का नाम भर नहीं है। ये पूरे दक्षिण भारत का मानस है। जो हिन्दी पर अंग्रेजी को वरीयता दे रहा है। दोष उनका नहीं है। क्योंकि, हम हिन्दी वाले भी तो अंग्रेजी को वरीयता देते हैं। और #EnglishElite तो उत्तर भारत और उनके नेताओं ने ही तैयार किय...
हर्षवर्धन त्रिपाठी
83
ये Thiru Thirunavukkarsau हैं। मेरे नए फेसबुक दोस्त हैं। फेसबुक दोस्ती से पहले ये मेरी टैक्सी के ड्राइवर हैं, जिसने मुझे 3 दिनों तक चेन्नई एयरपोर्ट से तिरुपति-तिरुमला, महाबलीपुरम की शानदार यात्रा कराकर फिर से चेन्नई एयरपोर्ट पर छोड़ा। तिरुनावकर संभवत: मैं...
sanjiv verma salil
6
एक रचना:(तरह मात्रिक जनक छंद )*आँसू हैं हर आँख में आसमान फट पड़ा आँसू हैंहर आँख में*अंकुर सूखे वृष्टि बिनधरती की छाती फटीकृषक आत्महत्या करेंपत्ते रहेन शाख मेंफूट रहा धीरज-घड़ाआसमान फट पड़ाआँसू हैंहर आँख में*अतिरेकी बम फोड़तेनिरपराध मारे गयेबेबस...
ललित शर्मा
62
..............................
ललित शर्मा
62
..............................