ब्लॉगसेतु

Prashant Kumar Prajapati
434
 
Prashant Kumar Prajapati
434
तीन कोरोना पॉजिटिव ओर मिले... मऊसहानियां ओर बड़ामलहरा के संदिग्ध पॉजिटिव निकले... गौरिहार में एक ओर पॉजिटिव की पुष्टि... छतरपुर शहर के लिये सुखद कि पुलिसकर्मी कि सागर लेब से रिपोर्ट नेगेटिव आई.... मऊसहानियां ओर बड़ामलहरा सहित पुलिस लाइन में पदस्थ पुलिस कर्मी कि गुरुव...
 पोस्ट लेवल : छतरपुर समाचार
अजय  कुमार झा
35
छत पर बनी मेरी वाटिका #बागवानीमंत्रआज बागवानी से सम्बंधित कुछ बेहद साधारण मगर महत्पूर्ण बातें करेंगे |पहली बात यदि आप बागवानी शुरू करने की शुरुआत करने की सोच रहे हैं या मन बना रहे हैं तो अभी जून तक का समय बिलकुल प्रतिकूल होने के कारण अवश्य ही रुक जाएं | बेशक इ...
अरुण कुमार निगम
203
"छत्तीसगढ़ी कविताओं में किसान और खेतिहर मजदूर की पीड़ा"प्रशंसा "मुक्त-कण्ठ" से होती है तो पीड़ा को "हृदय" से महसूस किया जाता है। जिनके लिए न तालियाँ बजीं, न थालियाँ बजीं, न शंख फूँके गए, न दीप जलाए गए, न बिना किसी आग्रह के पटाखे फोड़े गए और न ही आतिशबाजियाँ की गईं। आज...
अरुण कुमार निगम
203
"छत्तीसगढ़ी कविता में मद्य-निषेध"शराब, मय, मयकदा, रिन्द, जाम, पैमाना, सुराही, साकी आदि विषय-वस्तु पर हजारों गजलें बनी, फिल्मों के गीत बने, कव्वालियाँ बनी। बच्चन ने अपनी मधुशाला में इस विषय-वस्तु में जीवन-दर्शन दिखाया। सभी संत, महात्माओं, ज्ञानियों और विचारकों ने शरा...
अरुण कुमार निगम
203
"श्रमिक दिवस की शुभकामनाएँ"छत्तीसगढ़ी कविताओं में मजदूर - छत्तीसगढ़ी किसानों और मजदूरों का प्रदेश है। यहाँ के कवियों ने किसानों और मजदूरों की संवेदनाओं को महसूस किया है और उन्हें अपनी कविताओं और गीतों के माध्यम से अभिव्यक्त किया है। इन कविताओं और गीतों में कर्म...
अनीता सैनी
7
चाँद सितारों से पूछती हूँ हाल-ए-दिल,  ज़िंदा जल रहे  हो परवाने की तरह ! मरणोपरांत रोशनी आत्मा की तो नहीं,    क्यों थकान मायूसी की तुम पर नहीं आती |हार-जीत का न इसे खेल समझो,  अबूझ पहेली बन गयी है ज़िंदगी, शमा-सी जल रह...
कुमार मुकुल
216
वैश्विक हताशा की परिणतियों का दस्‍तावेज वैश्वीकरण की चमकीली आँधी अब अपने तीसरे दशक की आख़िरी पारी खेल रही है। कारपोरेट लालच और उपभोक्तावाद चरम पर हैं। जो लोग बाज़ार के गृहप्रवेश से सदमे में थे वे अब अपने मोबाइल  फ़ोन के स्क्रीन पर तरह-तरह की चीजें देखकर गूँगे...
mahendra verma
277
छत्तीसगढ़ के किसानों के लिए इस मौसम में ‘ओल’ महत्वपूर्ण हो जाता है । रबी फसल के लिए खेत की जुताई-बुआई के पूर्व किसान यह अवश्य देखता है कि खेत में ओल की स्थ्ति क्या है । ओल मूलतः संस्कृत भाषा का शब्द है । विशेष बात यह है कि ओल का जो अर्थ संस्कृत में है ठीक वही अर्थ छ...
सुशील बाकलीवाल
426
             हम सभी जानते हैं कि हमारे स्वास्थ्य का एक महत्वपूर्ण स्तम्भ न सिर्फ शारीरिक बल्कि वातावरण की स्वच्छता पर भी निर्भर होता है और जब इस स्वच्छता की कमी हमारे घर की रसोई में लगातार बनी रहे तो घर-पर...