प्रगतिशील चेतना के कवि रमाशंकर यादव विद्रोही की कविताओं में जनचेतनापरिवर्तन : साहित्य, संस्कृति और सिनेमा की वैचारिकीISSN 2455-5169वर्ष 1 अंक 3 जुलाई-सितम्बर 2016तेजस पुनियास्नातकोत्तर हिंदी विभागराजस्थान केंद्रीय विश्विद्यालयबांदरसिंदरी, अजमेरकविता और वास्तविक जीव...