ब्लॉगसेतु

अनीता सैनी
26
पारिजात से उँघते परिवश में, लुढ़कर कहाँ से दरिंदगी की सनक आ गयी, हृदय को बींधती भविष्य की किलकारी,  नागफ़नी के काँटों-सी कँटीली, साँसों में चुभने लगी |पल रहा अज्ञानता की पराकाष्ठा में, बेटियों की बर्बर नृशस हत्याएँ, आदमजात का उफनता...
Saransh Sagar
231
विषय संवेदनशील है पर इस समय कोई भी व्यक्ति इससे अपरिचित नही रह गया है इसीलिए सभी मित्रों,अग्रज व अनुज के विचार आमंत्रित है !!! रेप , ब्लात्कार य दुष्कर्म जैसी घटनायें होने के क्या क्या कारण है ? वो कौन से तत्व है जो इन अपराधों को जन्म देते है !! रेप , ब्लात्का...
Saransh Sagar
231
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालय की प्रतिभा मीडिया कभी नही दिखाएगी !!  .facebook-responsive { overflow:hidden; padding-bottom:56.25%; position:relative; height:0; } .facebook-responsi...
HARSHVARDHAN SRIVASTAV
211
..............................
kumarendra singh sengar
30
आज कुछ लिखने का मन नहीं हो रहा था किन्तु कल से ही दिमाग में, दिल में ऐसी उथल-पुथल मची हुई थी, जिसका निदान सिर्फ लिखने से ही हो सकता है. असल में अब डायरी लिखना बहुत लम्बे समय से बंद कर दिया है. बचपन में बाबा जी द्वारा ये आदत डाली गई थी, जो समय के साथ परिपक्व होती रह...
sanjiv verma salil
7
कृति चर्चा -'अपने शब्द गढ़ो' तब जीवन ग्रन्थ पढ़ो आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*[कृति विवरण - अपने शब्द गढ़ो, गीत-नवगीत संग्रह, डॉ. अशोक अज्ञानी, प्रथम संस्करण २०१९, आईएसबीएन ९७८-८१-९२२९४४-०-७, आकार २१ से.मी. x १४ से.मी., आवरण पेपरबैक बहुरंगी, पृष्ठ १३८, मूल्य १५०/-,...
Saransh Sagar
231
एक बुढ़िया बड़ी सी गठरी लिए चली जा रही थी। चलते-चलते वह थक गई थी। तभी उसने देखा कि एक घुड़सवार चला आ रहा है।उसे देख बुढ़िया ने आवाज दी, ‘अरे बेटा, एक बात तो सुन।’ घुड़सवार रुक गया। उसने पूछा, ‘क्या बात है माई...?’बुढ़िया ने कहा, ‘बेटा, मुझे उस सामने वाले गांव में ज...
Saransh Sagar
231
कैलाश मंदिर दुनिया भर में एक ही पत्थर की शिला से बनी हुई सबसे बड़ी मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है। इस मंदिर को तैयार करने में क़रीब 150 वर्ष लगे और लगभग 7000 मज़दूरों ने लगातार इस पर काम किया। पच्‍चीकारी की दृष्टि से कैलाश मन्दिर अद्भुत है। मंदिर एलोरा की गुफ़ा संख्या 1...
कुमार मुकुल
218
 निराला के एक छोर पर शमशेर दूसरे पर नागार्जुन हैं। (दैनिक पाटलीपुत्र टाइम्‍स, पटना - 1995)क्‍या कविता केंद्र में वापस आ रही है और उसका उन्‍नयन हो रहा ?उन्‍नायक से ज्‍यादा जो कविता के नायक हैं वही ऐसा कहते हैं। अशोक वाजपेयी, कमलेश्‍वर ऐसे ही नायक हैं। कव‍िता क...
Ashish Shrivastava
123
इस बार का भौतिकी का नोबेल प्राइज तीन वैज्ञानिकों जेम्स पीबल्स, मिशेल मेयर और डिडिएर क्वेलोज को प्रदान किया गया। वर्ष 2019 के लिए भौतिकी नोबेल पुरस्कार कनाडाई-अमेरिकी खगोलशास्त्री जेम्स पीबल्स(James Peebles) और स्विस खगोलविद मिशेल मेयर(Michel Mayor) और डिडिएर क्वेल...