ब्लॉगसेतु

Bhavna  Pathak
82
मेरे अंदर साठ साल कानन्हा बालक रहता हैकभी शांत तो कभी बहुतवह ऊधमबाजी करता हैखुश हो जाता जब भी पातावह कोई नन्हा साथीकभी खेल में चूहा बनताकभी कभी बनता हाथीकभी लगाता दौड़ साथ मेंकभी गेंद संग में खेलेधमाचौकड़ी  करे साथ मेंसाथ साथ झूला झूलेकभी सुनाता नई कहानी ...
S.M. MAsoom
40
नागपंचमी का पर्व पूर्वी उत्तर प्रदेश में हिन्दू धर्म में सावन महीने से त्योहारों के शुरूवात का पर्व माना जाता है। नागपंचमी का पर्व सोमवार २३ जुलाई २०१२ को है। परम्परागत व हर्षोल्लास पूर्वक त्यौहार को मनाने के लिए रविवार को लोगों ने बाजार से नाग देवता के पोस्टर, धान...
Bhavna  Pathak
82
जी हां, हरियाला सावन झूम झूम कर आ गया। बादल, बरखा, ठंढ़ी हवा, झूले, कजरी, मल्हार एक साथ इकट्ठे हो जांय तब पक्का जानिए कि सावन ही द्वार पर दस्तक दे रहा है। शहरों में भले ही सावन दबे पांव आता हो, शहरी जीवन के भागमभाग, शोर शराबे में सावन की आवाज नक्कारखाने में तूती जै...
मधुलिका पटेल
538
सोच रहा हूँ आज अपने गाँव लौट लेगांवों में अब भी कागा मुंडेर पर नज़र आते हैंउनके कांव - कांव से पहुने घर आते हैं पाँए लागू के शब्दों से होता है अभिनंदनआते ही मिल जाता है कुएँ का ठंडा पानी और गुड़ धानीनहीं कोइ सवाल क्यों आए कब जाना है नदी किनारे गले मे...
Akhilesh Karn
242
गायिका : रितू चौहान, शीला रावल, सोनी चौहानकजरी अरे रामा झूला झूलेले  मुरारी,कदम के डारी ऐ हरिअरे रामा झूला झूलेले  मुरारी,कदम के डारी ऐ हरिअरे रामा झूला झूलेले  मुरारी,कदम के डारी ऐ हरिअरे रामा झूला झूलेले  मुरारी,कदम के डारी ऐ हरिकदम के डारी ऐ...
सरिता  भाटिया
160
सावन के झूले हुए, सभी पुराने खेल व्यस्त सभी हैं नेट पर, करते हैं ई मेल |करते हैं ई मेल, भूल के गिल्ली डंडा भूले कुश्ती ,दौड़,नेट का आया फंडा दिन भर करते चैट,सभी रिश्ते हैं भूले सरिता कहती झूल, लगे सावन के झूले ||****
457
 अपनी बालकृति "हँसता गाता बचपन" से बालकविता"झूला झूलें"आओ अब हम झूला झूलें।खिड़की-दरवाजों को छू लें।।मिल-जुलकर हम मौज मनाएँ।जोर-जोर से गाना गाएँ।।माँ कहती मत शोर मचाओ।जल्दी से विद्यालय जाओ।।मम्मी आज हमारा सण्डे।सण्डे को होता होलीडे।।नाहक हमको टोक रही...