ब्लॉगसेतु

दयानन्द पाण्डेय
69
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
69
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
69
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
pradeep beedawat
529
 बीते दो दिन में बड़ा नाटक चला। राम नाम की नाव में सवार पार्टी इन दिनों अम्बेडकर के चरणों में ‘फूल’ चढ़ा रही थी। दूसरी ओर कभी पार्टी से बाहर करके बाद में बाबा साहब के अनुयायी रामजी को हाथ जोड़ते नजर आए। फिर कौन कह रहा है कि भारत असहिष्णु है। बाबा साहब तो राम,...
 पोस्ट लेवल : व्यंग्य टिप्पणी comments
दयानन्द पाण्डेय
69
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
Shreesh Pathak
443
सच एक नहीं होता, एक वह हो ही नहीं सकता क्यूंकि सब एक साथ एक जगह खड़े नहीं होते l सबका अपना अपना सच हो सकता है, किसी का सच छोटा या बड़ा नहीं हो सकता l एक समय में किसी विषय पर सूचनाओं की उपस्थिति सम्पूर्ण नहीं हो सकती, इसलिए सच, समय समय का भी हो सकता है l कोई निष्कर्...
दयानन्द पाण्डेय
69
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
69
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
69
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
69
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी