ब्लॉगसेतु

Ramesh pandey
425
1 अप्रैल 2015 को बिहार के हाजीपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में बीजेपी के नेता व मोदी कैबिनेट के मंत्री गिरिराज सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर नस्ली टिप्पणी की। गिरिराज का टिप्पणी क्या करना, देश की राजनीति गरमा गई। कांग्रेस और मोदी सरकार के विपक्षी अन्य सभी...
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
Shreesh Pathak
434
देश के लिए किया गया कोई भी योगदान छोटा या बड़ा नहीं होता, वह महनीय ही होता है। शहादतों की तूलना करना किसी भी शहादत का अपमान ही करना है। भगत सिंह-सुखदेव-राजगुरु की शहादत इसलिए बड़ी नहीं है कि किसी और महापुरुष की शहादत छोटी है, बल्कि वह शहादत बड़ी है ही क्योंकि वो प्यार...
Shreesh Pathak
434
साल 1996....!!! अखबार का पहला पन्ना थोड़ा-थोड़ा समझ आने लगा था। 'राव बनाएं, फिर सरकार' के पोस्टरों को फाड़ सहसा एक लोकप्रिय नेता भारत का प्रधानमंत्री बनने जा रहा था।उस जमाने में हम सभी उनकी तरह बोलने की नकल करते थे। शब्दों के बीच का अंतराल चमत्कार पैदा करता था, क्योंक...
दयानन्द पाण्डेय
109
कुछ समय पहले मैं राजस्थान गया था।  इस बार बेटा गया । यानी पधारो म्हारो देश ! फिर-फिर ! मैं लौटा था तो यादों और अनुभव की दास्तान ले कर । बेटा  मुझ से ज़्यादा , बहुत ज़्यादा ले कर लौटा है । मैं एक सेमिनार के सिलसिले में गया था । बेटा कॉलेज टूर के बहाने घूमन...
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
109
कुछ फेसबुकिया नोट्स इतने सारे पुस्तक मेले लगते हैं । किसिम-किसिम के मेले । तो पुस्तक बिकती भी ज़रूर होगी। तो यह प्रकाशक लेखक को रायल्टी भी क्यों नहीं देते ? और कि रायल्टी देने के बजाय उलटे लेखक से ही किताब छापने के पैसे क्यों मांग लेते हैं । अभी एक मशहूर कवि...
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
72
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
72
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
Shreesh Pathak
434
माना, बचपन इतना भी बेख़ौफ़ ना होता हो सबका, पर जैसी भी जिन्दगी है किसी की, बचपन का अल्हड़पन याद जरुर आता होगा. तेरा-मेरा था, तरोड़-मरोड़ ना था, नीच-ऊंच था भी तो उसका महत्त्व कुछ ना था. जानते कुछ ना थे, जानना सब चाहते थे. प्यार जितना भी नसीब था, हिसाब नहीं था. खेल खेल मे...
दयानन्द पाण्डेय
109
 कुछ  फेसबुकिया नोट्स  अरविंद केजरीवाल किरन बेदी को तो पानी पिला देंगे पर नरेंद्र मोदी का तो वह नाखून भी नहीं छू पा रहे। न राजनीतिक पैतरेबाज़ी में , न विजन में , न नौटंकी में , न वादे और इरादे में, न प्रहार और प्लैनिंग में । अरविंद केजरीवाल को...
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
72
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी