ब्लॉगसेतु

अजय  कुमार झा
95
समय घूम फ़िर कर वहीं आ खडा होता है और ऐसे समय में तो मुझे लगता है मानो हम सब किसी पार्क में एक दूसरे के पीछे भाग भाग कर गोल गोल घूम घूम कर रेलगाडी छुक छुक छुक छुक खेलने में लगे हैं  । दिल्ली विधानसभा चुनाव एक बार फ़िर से लडे जाने वाले हैं , अपने यहां इस देश में...
दयानन्द पाण्डेय
109
 कुछ और फ़ेसबुकिया नोट्स  एक समय दिग्विजय सिंह और कपिल सिब्बल जैसे कांग्रेसी अहंकारियों ने अन्ना के नेतृत्व में चल रहे इंडिया अगेंस्ट करप्शन के लोगों को ललकारा कि ऐसे ही देश बदलना है तो राजनीति में आ कर देखें। आटे-दाल का भाव मालूम हो जाएगा। अन्ना हज...
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
72
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
109
कुछ फेसबुकिया नोट्स  नीतीश कुमार तो अब लद गए । पहले नरेंद्र मोदी से मोर्चा खोल कर मुंह की खाए ही थे , अब उन के खड़ाऊं राज के प्रतीक जीतन राम मांझी ने भी उन्हें जोर का झटका धीरे से दे दिया है। नीतीश नाम की माला फेर-फेर कर ही उन को बड़ा सा दर्पण दिखा दि...
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
72
..............................
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
109
  गौतम चटर्जी गौतम चटर्जी मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि दयानंद पांडेय कवि हैं। मैें उन्हें कवि उस अर्थ में कह रहा हूं जिस अर्थ में मैं निर्मल वर्मा को कवि मानता रहा हूं। तमाम किस्सागोई प्रतिभा-प्रखरता के बावजूद यदि मुझे उन्हें लेखक क...
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
109
एक फेसबुकिया विमर्श मुकेश जी , आप की यह टिप्पणी बहुत लाऊड है आप की हरामजादे कविता की तरह ही । आप को क्या लगता है कि एम जे अकबर अगर भाजपा में गए हैं तो क्या वहां नमाज अदा करने गए हैं ? निश्चित रूप से नहीं । वह गए हैं तो भाजपा और नरेंद्र मोदी का सजदा करने के ल...
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
दयानन्द पाण्डेय
109
कुछ फ़ेसबुकिया नोट्स  अब लीजिए उधर पेरिस के आतंकवादी मारे गए और इधर पाकिस्तान के रावलपिंडी में भी आत्मघाती हमला ! हाय रे यह इस्लामी आतंकवाद ! आखिर कैसा दीन है तेरा ? किस की तू खिदमत कर रहा है ? क्या मंज़िल है तेरी? मनुष्यता से आख़िर इतनी दुश्मनी क्यों है त...
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी
अजय  कुमार झा
461
मध्यस्थता को स्वीकारने की युक्तियुक्तता मध्यस्थता, व्यावसायिक विवादों के निपटान की तीव्र गति से विकसित होती विवाद निस्तारण तकनीक है क्योंकि यह विवाद निपटान प्रक्रिया को गति देता है । यह विवादित पक्षों को विवाद निपटाने के लिए अपने व्यावसायिक सलाहकारों की सहायता...
अजय  कुमार झा
269
इस बीच सोशल नेटवर्किंग साइट्स से लेकर ,समाचार माध्यमों की अति सक्रियता , या कहा जाए कि तत्परता के दोहरा प्रभाव पडता दिख रहा है । एक तरफ़ तो,टीवी, मोबाइल , इंटरनेट, व अन्य समाचार माध्यमों की सर्वसुलभता और खबरों की सतत उपलब्धता ने लोगों को इन सबका आदी बना दिया है , या...