ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
विज्ञापन या ठगी ??????1) घोटालों से परेशान ना हों, Tata की चाय पीयें, इससे देश बदलजाएगा|2) पानी की जगह Coca Cola और Pepsi पीयें और प्यास बुझायें|3) Lifebuoy और Dettol 99.9% कीटाणु मारते है पर 0.1 %पुनः प्रजनन के लिए छोड़ ही देते हैं|4) महिलाओं को बचाने और बटन खुले...
 पोस्ट लेवल : विज्ञापन या ठगी ??????
Sanjay  Grover
416
लोग ग़ौर से देख रहे थे।कौन किसका पंजा झुकाता है ? कौतुहल.....उत्तेजना......सनसनी....जोश.....उत्सुकता......संघर्ष....प्रतिस्पर्धा.....प्रतियोगिता.....ईर्ष्या......नफ़रत......जलन.....धुंधला ही सही, लोगों को कुछ-कुछ नज़र आ हा था क्यों कि हाथों में अलग-अलग रंगों के द...
अनंत विजय
58
एक लंबे अर्से से हिंदी साहित्य में पाठकों की कमी का रोना रोया जाता रहा है । इस बात को हर सभा गोष्ठी में बहुत जोर शोर से रेखांकित किया जाता रहा है कि हिंदी साहित्य के पाठक घट रहे हैं, लिहाजा साहित्य पर बड़ा संकट आन पड़ा है । यह बहुत हद तक सही भी हो सकता है क्योंकि ब...
केवल राम
324
आजकल जितने भी ऐसे छुटभये तैयार हुए हैं उनके कई तरह के नकारात्मक प्रभाव हमारे समाज और देश पर पड़ रहे हैं और जिस धर्म की आड़ में वह यह सब कुछ कर रहे हैं वह वास्तव में धर्म को स्थापित करने जैसा नहीं है, बल्कि भोले-भाले लोगों को अधर्म की तरफ ले जाने वाला मार्ग है. गतांक...
संजय भास्कर
225
  सिनेमा पर तो थोड़ी बहुत लगाम है पर विज्ञापनों के मामले में टीवी बेलगाम है। टीवी को विज्ञापन चाहिएं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि विज्ञापन कैसे हैं। अच्छे या बुरे। समाज के हित में या अहित में। टीवी के मामले में कोई ठोस पॉलिसी नहीं होने की वजह से ही जागो ग्र...