ब्लॉगसेतु

ऋता शेखर 'मधु'
116
अभिनंदन राम काभारत की माटी ढूँढ रहीअपना प्यारा रघुनंदनभारी भरकम बस्तों मेंदुधिया किलकारी खोई होड़ बढ़ी आगे बढ़ने कीलोरी भी थक कर सोईमहक उठे मन का आँगनबिखरा दो केसर चंदनवर्जनाओं की झूठी बेड़ीललनाएँ अब तोड़ रहींअहिल्या होना मंजूर नहींरेख नियति की मोड़ रहींविकल हुई मधुबन की...
Pratibha Kushwaha
470
हिन्दू पौराणिक कथाओं में स्त्रियों के सौभाग्य का सूचक सिंदूर के बारे में ऐसी कई तरह की कथाएं प्रचलित हैं। जिनके माध्यम इस बात को स्थापित करने की कोशिश की जाती है कि सौभाग्य यानी पति की लंबी आयु के लिए सिंदूर क्यों धारण किया जाता है। सिंदूर का संदर्भ केवल शादीशुदा म...
E & E Group
12
पूरे देश में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही ध&#2370...
ऋता शेखर 'मधु'
116
मैं वसुन्धरा खिले पलाशों से मिल मिल कर खुद बासंती होती जाऊँ सरस फाग के गीत सुहाने अलि पपीहा आए सुनाने पारिजात भर देता दामन मस्त हवा ने गाए तराने पीत रंग सरसो से लेकर मीठे सपनो को ले आऊँ ग्रंथों में न होगी पुरानी विरह मिलन की कथा कहानी शब्दों में भी जान आ गई जब मौसम...
ऋता शेखर 'मधु'
276
दोस्तों, कल 21/09/2017 से शारदीय नवरात्र प्रारम्भ हो रहा है| शक्ति की देवी माँ दुर्गा का आगमन सबके लिए शुभ हो| मैं दुर्गा सप्तशती के तृतीय अध्याय श्लोक तथा हिन्दी अनुवाद के साथ हाजिर हूँ| मैंने इसे पुस्तक से चित्र लेकर सजाया है| यह ख्याल मुझे इसलिए आया कि किसी कार...
ऋता शेखर 'मधु'
276
दोस्तों, कल 21/09/2017 से शारदीय नवरात्र प्रारम्भ हो रहा है| शक्ति की देवी माँ दुर्गा का आगमन सबके लिए शुभ हो| मैं दुर्गा सप्तशती के द्वितीय अध्याय श्लोक तथा हिन्दी अनुवाद  के साथ हाजिर हूँ| मैंने इसे पुस्तक से चित्र लेकर सजाया है| यह ख्याल मुझे इसलिए आया कि क...
ऋता शेखर 'मधु'
276
दोस्तों, कल 21/09/2017 से शारदीय नवरात्र प्रारम्भ हो रहा है| शक्ति की देवी माँ दुर्गा का आगमन सबके लिए शुभ हो| मैं दुर्गा सप्तशती का प्रथम अध्याय श्लोक तथा हिन्दी अनुवाद के साथ हाजिर हूँ| मैंने इसे पुस्तक से चित्र लेकर सजाया है| यह ख्याल मुझे इसलिए आया कि किसी कारण...
ऋता शेखर 'मधु'
116
उत्तरायण हुए भास्करभक्त नहाए गंगउम्मीदों की डोर सेउड़ा लो आज पतंगरग रग में जागी है ऊर्जाशिशिर गया है खिलएहसासों के गुड़ में लिपटेसोंधे सोंधे तिलथक्के थक्के में दही जमेलिए गुलाबी रंगकिसका माँझा किससे तेजआसमान में ठनी लड़ाईइसका पेंच या उसका पेंचबढ़ी काटने की चतुराईपो...
 पोस्ट लेवल : नवगीत गीत दिवस त्योहार
डा. सुशील कुमार जोशी
8
कसमसाहट नजर आना शुरु हो गयी है त्योहार नजदीक जो आ गया है अन्धों का ज्यादा और बटेरों का कम अपने अपने अन्धों के लिये लामबन्द होना शुरु होना लाजिमी है बटेरों का तू ना अन्धा है ना हो पायेगा बड़ी बड़ी गोल आखें और उसपर इस तरह देखने की आदत जैसे बस देखेगा ही नहीं मौका मिले...
पीताम्बर शम्भू
283
हमारे भारत देश में दीपावली हमेशा से ही एक बड़े धूम धाम से मनाने वाले त्योहारों में से एक रहा है। इस दिन के आने से पहले ही लोग घरों में सफाई, साज सजावट, रंग-रोगन करने-कराने लगते हैं। गरीब हो या अमीर सभी अपने घर को इस दिन साफ़ दिखाई देने में यकीन रखते हैं। माता महालक्ष...