ब्लॉगसेतु

विजय राजबली माथुर
73
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) 03 10 2018 09:13:42 AMयोगी शासन में यह घालमेल सरकारी नीति के झीने परदे से संचालित किया जा रहा था जिसे विवेक तिवारी हत्याकांड की ‘विशिष्टता’ ने अब...
सुनील  सजल
248
लघु कथा- न्याययूँ तो वह थाने में आने वाली रेप पीड़िताओं के साथ कभी न्याय करता नजर नहीं आया । अक्सर पीड़िताओं को उसकी दबंगई के चलते दुत्कार ही मिली पिछले माह की घटना है । इलाके किसी गुंडे ने उसकी बिटिया का अपहरण कर बलात्कार कर दिया । अपने प्रयास से हारा वह अपने ह...
जन्मेजय तिवारी
449
                            अगले दिन अवकाश होने पर रात को यह दृढ़ संकल्प लेकर सोया कि कल देर तक नींद का सुख लूटूँगा, पर सुबह मुँह अँधेर...
जन्मेजय तिवारी
449
                  जब से राजमाता लोमड़ी ने वानप्रस्थ आश्रम में जाने की तैयारी शुरु की है, तभी से अखिल जंगल दल का समूचा बल युवराज के सिर पर टूट पड़ा है । सत्ता का सुख ही ऐसा होता है कि त्याग की मूर्ति देवी को भी राजमा...
जन्मेजय तिवारी
449
                दरबार-ए-खास में आज काफी गहमागहमी है । महाराज सियार के अलावा सारे मातहत मंत्री उपस्थित हैं । इस बात का खास ख्याल रखा गया है कि उन्हीं को इस खास मौके पर बुलाया जाए, जो हर हाल में समाजवाद का झंडा बुलंद रखते...
Sanjay  Grover
699
लघुव्यंग्यकथासड़क-किनारे एक दबंग-सा दिखता आदमी एक कमज़ोर-से लगते आदमी को सरे-आम पीट रहा था। पिटता हुआ आदमी ‘बचाओ-बचाओ’ चिल्ला रहा था। लोग बेपरवाह अपने रुटीन के काम करते गुज़र रहे थे। ‘हाय! हमें बचाने कोई नहीं आता, कोई हमारा साथ नहीं देता.....’, वह कराह रहा था...ए...
E & E Group
13
बाराबंकी : क्षेत्र में गौरियाघाट जाने वाले म&#236...
 पोस्ट लेवल : दबंगों का कब्जा
सुनीता शानू
501
ये जो पाबला जी हैं सचमुच डिफ़्रेंट ही हैं। कभी-कभी दिल कहता है इनका नाम करमचंद जासूस रख दूँ। मगर डर लगता है डर पाबला जी से नही उनसे पंगा लेने से लगता है। अब आप कहेंगे की सबसे पंगा ले सकती हैं पाबला जी से नही तो यह भी एक रहस्य वाली बात है आजमाना चाहते हैं तो बस जरा...
Sanjay Chourasia
181
जब हम दबंग नाम सुनते हैं तो हमारे दिमाग में किसी हट्टे-कट्टे , चौड़ी छाती वाले रौबदार इन्सान का चेहरा याद आता है ! दबंग नाम सुनते ही हमें किसी रसूखदार या किसी उच्च जाति या किसी गुंडे - मवाली , तेज- तर्रार व्यक्ति का ध्यान आता है ! क्योंकि आज तक हमने ऐसे ही दबंगों के...
 पोस्ट लेवल : " दबंग "