ब्लॉगसेतु

हर्षवर्धन त्रिपाठी
88
बसपा प्रमुख मायावती ने आजमगढ़ में दलितों की बेटियों से उत्पीड़न के मामले में किंतु परंतु के साथ ही सही, लेकिन उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की प्रशंसा की है। उन्होंने कहाकि दलित बहन बेटियों के साथ हुए उत्पीड़न का मामला हो या अन्य किसी भी जाति व धर्म की बहन ब...
यूसुफ  किरमानी
183
शिकार की तलाश में सरकारसरकार कोरोना वायरस में अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए शिकार तलाश रही है...जब हम लोग घरों में बैठे हैं कश्मीर से कन्या कुमारी तक सरकार अपने एजेंडे पर लगातार आगे बढ़ रही है...ये भूल जाइए कि अरब के चंद लोगों से मिली घुड़की के बाद फासिस्ट सरकार द...
यूसुफ  किरमानी
183
हथियार बेचने आ रहे हिरोशिमा के क़ातिलों की संतान के स्वागत में वो कौन लाखों लोग अहमदाबाद की सड़कों पर होंगे ?दीवार के इस पार या उस पार वालेनरोदा पाटिया वाले या गुलबर्गा वाले।डिटेंशन कैंप सरीखी बस्तियों वालेया खास तरह के कपड़े पहनने वाले।।वो जो भी होंगे पर किसान तो...
विजय राजबली माथुर
127
फोटो सौजन्य से कामरेड प्रदीप शर्मा लखनऊ, में कल दिनांक  16 अकूबर को 5  वामपंथी दलों ( भाकपा, माकपा , भाकपा - माले, फारवर्ड ब्लाक और आर एस पी ) ने पक्का पुल ( लाल पुल ) से घंटाघर तक प्रदर्शन जुलूस निकाल कर एक सभा की जिस के द्वारा  नौजवानों, किसान...
Bharat Tiwari
23
"जाति एक सच है परंतु उस के भीतर वर्ग भी साँस लेता है, किसी गर्भस्थ शिशु की तरह।", दलित साहित्य का स्वरूप निखारती, अजय नावरिया की रोचक रूमानी कहानी "आवरण"पाठक हो या समाज, उसे अपने पड़ोसी पाठक और पड़ोसी समाज के उत्थान और पतन दोनों के विषय का जानकार होना, अपडेटेड रहना उ...
विजय राजबली माथुर
74
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश
यूसुफ  किरमानी
183
जगह- हरिजन कैंप, लोदी कॉलोनी, साउथ दिल्ली की मस्जिदबच्चे का नाम - मोहम्मद सलमानसोर्स का नाम - मोहम्मद मोती, राज मिस्त्री (मैंशन)पहले वीडियो देखें फिर नीचे की तस्वीर देखें...वीडियो में क्या है, जानबूझकर नहीं लिखा। अगर आपने सुना तो शायद आप ही बता दें।दिल्ली में लोदी...
Kajal Kumar
15
 पोस्ट लेवल : Caste hanuman दलित dalit जाति हनुमान
यूसुफ  किरमानी
183
(वैसे तो यह पब्लिक पोस्ट है, कोई भी पढ़ सकता है लेकिन इसमें पैगाम सिर्फ मुसलमानों के नाम है...)रात मेरे ख़्वाब में पैगंबर-ए-रसूल आए...मुझे उनका चेहरा तो नहीं दिखाई दिया लेकिन उनकी आवाज़ गूँजती रही और मैं सुनता रहा। उन्होंने यह पैग़ाम भारतीय मुसलमानों तक पहुँचाने...
kumarendra singh sengar
28
केंद्र सरकार के एक विधेयक पारित करते ही सवर्णों में मानो भूचाल आ गया. बहुतायत में सवर्ण एकजुट होकर केंद्र सरकार को सबक सिखाने के लिए जुट गए. अपनी ताकत को वे किसी प्रत्याशी के पक्ष में लाकर नहीं वरन नोटा बटन दबाकर दिखाना चाह रहे हैं. वे सवर्ण प्रत्याशियों को भी हरान...