ब्लॉगसेतु

अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैयह काशी अविनाशी साधोनिर्वासित सिया समय बड़ा विकरालकोरोना : एक चुनौती लॉकडाउन में किताबेंएकान्तकोरोना साँसें पूछ रहीं हाल प्रियेसहज रूप से ग्राह्य कविताओं का संग्रहजीवन मन्त्र संध्या राग श्वास रहित है तन...
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैचंदा और सूरज गीत का व्याकरण होली नितांत शून्य में खोजूँकाग़ज़ के खेतकह्मुकरियां क़रीब उनके आने के दिन आ रहे हैंप्रदूषित हो रही गंगा के प्रति चिंता दिखाता संग्रहअधिकार जंग छिड़ी है कुर्सी कीबस यूँ ही...कोरो...
kuldeep thakur
2
सोमवारीय विशेषांकहमक़दम मेंआप सभी सुधि पाठकों कास्नेहिल अभिनंदन-------आज सबसे पहले  विषय से इतरकुछ आवश्यक-प्रकृति के बिगड़ैल मिज़ाज औरकोरोना के आतंकवादी परवाज़ सेउत्पन्न राष्ट्रीय आपदा मात्र हमारे ही देशके लिए चिंता का विषय नहींअपितुसमूचा विश्व इस महामारी से...
 पोस्ट लेवल : दिलदार 1704
kumarendra singh sengar
28
मानव शरीर में दिल और दिमाग, दोनों का महत्त्वपूर्ण स्थान है. दोनों के अपने निर्णय होते हैं और जीवन के फैसलों में दोनों के निर्णयों को एक-दूसरे पर हावी नहीं होने देना चाहिए. किसी भी व्यक्ति के जीवन में कठिन स्थितियों में, नकारात्मक स्थितियों में, विवाद की स्थितियों म...
सुनीता शानू
502
 दिल्ली डायरी में जब प्रगति मैदान शामिल होने जा रहा था, तब अनायास ही डायरी के पन्नों पर लिखने-पढऩे का सबसे बड़ा मेला नजर आने लगा। इस साल के शुरुआती दिनों में यानी 4 से 12 जनवरी के बीच यहां विश्व पुस्तक मेला यानी वल्र्ड बुक फेयर का आयोजन नजर आया।------ सुनीता श...
PRAVEEN GUPTA
95
दिल्ली_की_धरोहर_अग्रवाल_समाजदिल्ली के इतिहास की परतों को पलटेंगे तो उस पर अग्रवाल समाज का गौरवशाली इतिहास सजा नजर आएगा। एक के बाद एक शासक तो दिल्ली की सत्ता हासिल करने की लालसा रही लेकिन अग्रवाल समाज ने दिल्ली को हर तरह समृद्ध, संपन्न व सम्मानित किया। --------...
Kavita Rawat
194
मुझे नहीं करनी थीजो मैंने बात ही नहीं की।मना लो, हँसा लो, कर लो गुस्सा, हो जाओ नाराज।मुझे नहीं करनी थीजो मैंने बात ही नही की।उसने कर, चर, खप, चटरसारे सुर लगाएकंकड़ सा चुभ-चुभ करसारे जोर लगाएहुआ महीन-मुलायम भी, पर .....मुझे नहीं करनी थीजो मैंने बात ही नही की।फिर...
 पोस्ट लेवल : कविता एक पुकार दिल की
अनीता सैनी
1
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैकानों में इश्क घोल देती हैं हस्‍तीमल हस्‍ती की गज़लेंइन्सानी भगवानों मेंफर्क कहां है लघु कविताएँ मन की गति कोई न जानेदिलदार एक छोटी-सी लड़की अर्द्धशतकसमीक्षा पुस्तक नारी बरसाने की लठामार होलीफेसबुक&...
प्रभाकर आनंद
646
        दो सप्ताह से अधिक हो चुके हैं। सरकार अभी तक जली दिल्ली की राख कुरेद रही है। क्या जला-क्या बचा अभी तक ये भी स्पष्ट नहीं हुआ। मौतों की गिनती तो सरकारें कब ही कर पाती हैं। फिर भी गृह मंत्री अमित शाह ने आज मौतों का कुछ आकड़ा दे दिया। ये...
यूसुफ  किरमानी
192
#दिल्ली_रक्तपात या #दिल्ली_जनसंहार_2020 की दास्तान खत्म होने का नाम नहीं ले रही है...अकबरी दादी (85) के बाद अब सलमा खातून दादी (70) की हत्या ने मेरे जेहन को झकझोर दिया है। मैंने गामड़ी एक्सटेंशन में तीन मंजिला बिल्डिंग में जिंदा जला दी गई 85 साल की अकबरी दादी की कह...