ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
एक रचना दिल्लीवालो *दिल्लीवालो! भोर हुई पर जाग न जानाघुली हवा में प्रचुर धूल हैजंगल काटे, पर्वत खोदेसूखे ताल, सरोवर, पोखर नहीं बावली-कुएँ शेष हैं हर मुश्किल का यही मूल है बिल्लीवालो!दूध विषैला पी मत जाना कल्चर है होटल में खाना सद्विचार कह दक़ियानूसी चीर-फाड़कर वस्त्र...
 पोस्ट लेवल : नवगीत दिल्लीवालो
अनीता सैनी
41
जिंदगियाँ निगल रहा प्रदूषण  क्यों पवन पर प्रतंच्या चढ़ाया है कभी अंजान था मानव इस अंजाम से आज वक़्त ने फ़रमान सुनाया है चिंगारी सोला बन धधक रही मानव !किन ख्यालों में खोया हैवाराणसी सिसक-सिसक तड़पती रही आज...
अनंत विजय
56
उन्नीस सौ नब्बे के आसपास की बात होगी, उन दिनों हिंदी साहित्य जगत में लघु पत्रिकाएं बहुतायत में निकला करती थीं। इनमें से ज्यादातर पत्रिकाएं एक विशेष विचारधारा का पोषण और सवंर्धन करनेवाली होती थीं। कम संख्या में छपनेवाली इन पत्रिकाओं की मांग उस विशेष विचारधारा के अनु...
PRABHAT KUMAR
155
दिल्ली की सड़कों पर 1 बजे रातघर से बाहर कदम रखते हीदिखता है गलियों में सन्नाटा औरइस सन्नाटे में प्रेमी और प्रेमकाओं की चीखेंकई अमानवीय मानव और कई मानवीय कुत्तेगाड़ियों की बोनट पर बैठे हुएझूमते हुए नशे में गिरते हुए आदमीऔर खोखले, कमजोर, शरीरविहीन।ट्रकों का सड़कों पर रौ...
अनंत विजय
56
इस वक्त हिंदी के सबसे समादृत लेखकों में से एक नरेन्द्र कोहली ने लंबे समय तक दिल्ली विश्वविद्यालय में अध्यापन किया। उन्होंने भारतीय पौराणिक चरित्रों पर विपुल लेखन किया है। उनको पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया है। अभी वे केंद्रीय फिल्म प्रमाणण बोर्ड के सदस्य हैं। उन्हों...
Pawan Kumar Sharma
171
पवन कुमार, नई दिल्ली
अनंत विजय
56
दिविक रमेश दिल्ली विश्वविद्यालय के मोतीलाल नेहरू कॉलेज में हिंदी के शिक्षक रहे और वहीं प्राचार्य के पद से रिटायर हुए। उन्होंने कविताएं और कहानियां लिखी हैं। वो तीन साल तक दक्षिण कोरिया में हिंदी के विजिटिंग प्रोफेसर भी रहे हैं। उनको बाल साहित्य के लिए साहित्य अकादम...
PRAVEEN GUPTA
100
इंडियामार्ट / 40 हजार रुपए से बना डाला दिल्ली का ऑनलाइन सदर बाजार, अब है 430 करोड़ का कारोबारनई दिल्ली. दिल्ली का सदर बाजार, उत्तर भारत का सबसे मशहूर थोक बाजार है। जहां सुई से लेकर इलेक्ट्रॉनिक्स सामान तक थोक दाम पर मिलते हैं। जहां सैकड़ों नहीं, हजारों कारोबारी रोज...
अनंत विजय
56
मीडिया के विभिन्न आयामों पर हिंदी में शोधपूर्ण लेखन कुमुद शर्मा की पहचान हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में प्रोफेसर और हिंदी माध्यम कार्यान्वयन निदेशालय की निदेशक कुमुद शर्मा ने स्त्री विमर्श को अपने तरीके से व्याख्यायित किया है। उनको भारतेन्दु हरिश्चद्र...
 पोस्ट लेवल : कुमद शर्मा दिल्ली
अनंत विजय
56
मैत्रेयी पुष्पा हिंदी की वरिष्ठ और चर्चित उपन्यासकार हैं। इनकी कहानियों पर टेलीफिल्मों का भी निर्माण हो चुका है। ये दिल्ली की हिंदी अकादमी की उपाध्यक्ष रह चुकी हैं। इनको सार्क लिटरेरी अवॉर्ड समेत कई प्रतिष्ठित पुरस्कार मिल चुके हैं। वो आज से पांच दशख पहले दिल्ली आई...