ब्लॉगसेतु

Lokendra Singh
104
 ने ताजी सुभाषचंद्र बोस की मौत से जुड़ी फाइलों पर जमी गर्द अभी ठीक से साफ भी नहीं हुई थी कि पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु से जुड़ी फाइलों को भी सार्वजनिक करने की मांग उठने लगी है। अनिल शास्त्री ने अपने पिता की तत्कालीन सोवियत संघ के ताशकंद म...
रणधीर सुमन
22
नई  कहानी मुल्ला नसरुद्दीन की कहानी अद्भुद कहानी है. वह कहानी पुरानी हो गयी है लेकिन भाव वही है इस नयी कहानी के पात्र बदले हैं, मंशा वही है, बातें वही हैं, अर्थ वही है लेकिन सन्दर्भ नया है. 2014 में संसदीय चुनाव हुए मुल्ला नसरुद्दीन की तरह चुनाव प्रचार हो...
रणधीर सुमन
22
 याकूब मेमन को 1993 के सीरियल बम धमाकों के आरोप में 30 जुलाई 2015 को नागपुर सेन्ट्रल जेल में फाँसी दे दी गई। लेकिन फाँसी की सजा सुनाए जाने से लेकर फाँसी के तख्ते पर चढ़ाए जाने तक कई सवालों पर अब भी बहस जारी है। क्या याकूब मेमन को जो सजा मिली वह उसका हकदार था?...
विजय राजबली माथुर
206
यों तो यह समस्त संसार ही एक पाठशाला है जहां सतत शिक्षाध्यन चलता रहता है। जो अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाये उसे गुरु कहते है। गु= अंधकार और रू=प्रकाश। आज ऐसे शिक्षक तो दूरबीन लेकर ढूँढने पर भी मिलना मुश्किल हैं। शिक्षा अब ज्ञान की नहीं व्यवसाय की प्रणाली है। जिस ज्ञ...
Lokendra Singh
104
 भा रतीय जनता पार्टी के प्रति समाज में जो कुछ भी आदर का भाव है और अन्य राजनीतिक दलों से भाजपा जिस तरह अलग दिखती है, उसके पीछे महामानव पंडित दीनदयाल उपाध्याय की तपस्या है। दीनदयालजी के व्यक्तित्व, चिंतन, त्याग और तप का ही प्रतिफल है कि आज भारतीय जनता पार्टी देश...
शिवम् मिश्रा
37
अवुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम जन्म 15 अक्टूबर 1931 - 27 जुलाई 2015, रामेश्वरम, तमिलनाडु, भारत), जिन्हें डॉक्टर ए पी जे अब्दुल कलाम के नाम से जाना जाता है, भारतीय गणतंत्र के ग्यारहवें निर्वाचित राष्ट्रपति थे। वे भारत के पूर्व राष्ट्रपति, जानेमाने वैज्ञानिक और...
अनंत विजय
58
क्या आतंकवाद और आतंकवादियों का कोई मजहब होता है । क्या कातिलों का कोई धर्म होता है । हमारा संविधान तो यह नहीं कहता है, लेकिन संविधान की शपथ लेकर लोकतंत्र के मंदिर में बैठनेवाले चंद लोग आतंक और कातिल को भी धर्म और मजहब के खांचे में फिट कर अपनी राजनीति की गोटियां सेट...
रणधीर सुमन
22
कचेहरी धमाकों के आरोपी हकीम तारिक कासमी को 24 अप्रैल 2015 को पुलिस द्वारा लगाए गए तमाम आरोपों में विद्वान जज एसपी अरविंद ने दोषी पाते हुए छः बार उम्र कैद बा मशक्कत, और 50000-50000 रूपया का तीन जुर्माना की सजा सुनाई। ऐसा बहुत कम ही होता है जब पुलिस द्वारा लगाए गए आर...
मनोज कुमार  भारती
240
रामदीन एक छोटे से गांव में गरीब घर में पैदा हुआ। गांव में कोई स्कूल,अस्पताल नहीं था। गांव को शहर से जोड़ने वाली कोई सड़क भी न थी। गांव में बिजली भी नहीं थी। गांव मूलभूत सुविधाओं से वंचित था। गांव से दो कोस दूरी पर एक दूसरे गांव में मिडिल स्कूल था। वहीं से रामदीन ने म...
रणधीर सुमन
22
पिछले कुछ वर्षों से, राजनैतिक और सामाजिक स्तरों पर कुछ राष्ट्रीय विभूतियों का महिमामंडन करने और कुछ का कद घटाने के सघन प्रयास हुए हैं। भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन के पिछले शासनकाल ;1998.2004 में संसद परिसर में सावरकर के तैलचित्र का अनावरण किया गया था। कुछ वि...