ब्लॉगसेतु

kavita verma
699
मुल्ला रास्ते पर जा रहे थे तभी किसी ने पीछे से उन्हें एक चपत लगाईं मुल्ला उसे लेकर अदालत में गये. लेकिन जज उस आदमी का दोस्त निकला उसने उसे सज़ा तो सुनाई लेकिन क्या उसने सज़ा पाई? मुल्ला ने कैसे इसका प्रतिकार किया सुनिए कहानी मुल्ला नसीरुद्दीन में ....http://ww...
 पोस्ट लेवल : मुल्ला नसीरुद्दीन
Krishna Kumar Yadav
418
माँ तू आंगन मैं किलकारी,माँ ममता की तुम फुलवारी।सब पर छिड़के जान,माँ तू बहुत महान।।दुनिया का दरसन करवाया,कैसे बात करें बतलाया।दिया गुरु का ज्ञान,माँ तू बहुत महान।।मैं तेरी काया का टुकड़ा,मुझको तेरा भाता मुखड़ा।दिया है जीवनदान,माँ तू बहुत महान।।कैसे तेरा कर्ज चुकाऊं...
Krishna Kumar Yadav
418
माँ तू आंगन मैं किलकारी,माँ ममता की तुम फुलवारी।सब पर छिड़के जान,माँ तू बहुत महान।।दुनिया का दरसन करवाया,कैसे बात करें बतलाया।दिया गुरु का ज्ञान,माँ तू बहुत महान।।मैं तेरी काया का टुकड़ा,मुझको तेरा भाता मुखड़ा।दिया है जीवनदान,माँ तू बहुत महान।।कैसे तेरा कर्ज चुकाऊं...
Krishna Kumar Yadav
418
उल्लू होता सबसे न्यारा,दिखे इसे चाहे अँधियारा ।लक्ष्मी का वाहन कहलाए,तीन लोक की सैर कराए ।हलधर का यह साथ निभाता,चूहों को यह चट कर जाता ।पुतली को ज्यादा फैलाए,दूर-दूर इसको दिख जाए ।पीछे भी यह देखे पूरा,इसको पकड़ न पाए जमूरा ।जग में सभी जगह मिल जाता,गिनती में यह घटता...
 पोस्ट लेवल : दीनदयाल शर्मा कविता
Deen Dayal Singh
238
भूख, बेरोजगारी और गरीबी...झेल रही है जनता,पर फिर भी चुपचाप जिन्दगी का खेल...खेल रही है जनता,खुश है लूटने वाले, और लूट-लूट कर...पर अफसोश सो रही है जनता,दोस्त एक दिन सब बदल जायेगा...सो रही जनता जागेगी, और अपना हक मांगेगी,तब एक ही नारा हर और सुनाई देगा..."कमाने वाला ख...
 पोस्ट लेवल : कविता दीनदयाल
Krishna Kumar Yadav
418
अकड़-अकड़ करक्यों चलते होचूहे चिंटूराम,ग़र बिल्ली नेदेख लिया तोकरेगी काम तमाम,चूहा मुक्का तान कर बोलानहीं डरूंगा दादीमेरी भी अब हो गई हैइक बिल्ली से शादी।-दीनदयाल शर्मा
ललित शर्मा
62
..............................
girish billore
97
..............................
Krishna Kumar Yadav
418
बारिश का मौसम है आया।हम बच्चों के मन को भाया।।'छु' हो गई गरमी सारी।मारें हम मिलकर किलकारी।।कागज की हम नाव चलाएं।छप-छप नाचें और नचाएं।।मजा आ गया तगड़ा भारी।आंखों में आ गई खुमारी।।गरम पकौड़ी मिलकर खाएं।चना चबीना खूब चबाएं।।गरम चाय की चुस्की प्यारी।मिट गई मन की खुश्की...