ब्लॉगसेतु

अनंत विजय
55
आगामी सितंबर में स्कॉटलैंड में इंटरनेशनल क्राइम राइटिंग फेस्टिवल का आयोजन होना है। इस क्राइम राइटिंग फेस्टिवल का नाम ब्लडी स्कॉटलैंड है। इस फेस्टिवल में दुनिया की अलग अलग भाषाओं के अपराध कथा लेखक शामिल होते हैं। इस फेस्टिवल की चर्चा इस वजह से हो रही है क्योंकि पिछल...
Saransh Sagar
229
1. जो लोग अपनी सोच नहीं बदल सकते, वे कुछ भी नहीं बदल सकते।2. चाहे  तालियां गूंजे या फीकी पड़ जाए, अंतर क्या है ? इसका मतलब नहीं है कि असफल होते हैं या सफल, बस काम करिए, कोई काम छोटा या बड़ा नहीं होता।3.  जिस व्यक्ति ने अपनी आदतें बदल ली वो कल बदल जाएगा, औ...
Tejas Poonia
377
किताब - आई लव यू लेखक - कुलदीप राघव प्रकाशक - रेड ग्रैब बुक्स मूल्य - 125 रुपए विधा - प्रेमपरक उपन्यास समीक्षक - तेजस पूनियाअव्वल तो मुझे प्रेम कहानियाँ पसंद नहीं लेकिन फिर भी प्रेम पर आधारित कई कहानियाँ और फिल्में देखीं हैं। पसंद न आने का...
शिवम् मिश्रा
33
 ऐ मेरे वतन के लोगों एक हिन्दी देशभक्ति गीत है जिसे कवि प्रदीप ने लिखा था और जिसे संगीत सी॰ रामचंद्र ने दिया था। ये गीत चीन युद्ध के दौरान मारे गए भारतीय सैनिकों को समर्पित था। यह गीत तब मशहूर हुआ जब लता मंगेशकर ने इसे नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस के अवसर प...
Tejas Poonia
377
इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल ऑफ़ श्री गंगानगर में एक लघु फ़िल्म दिखाई गई 'सच'। क्या कहें ज़नाब फ़िल्म आपको इस कदर हताश, निराश करती है कि एक बारगी आप सोचने पर विवश हो जाते हैं कि ये लोगों को निर्देशक बना किसने दिया। ख़ैर कुछ गलतियाँ होती हैं। और सब इंसान ही हैं। ऐसी ही गलती...
PRAVEEN GUPTA
99
साभार: वैश्य भारती पत्रिका 
sanjiv verma salil
7
कुमार रवींद्र की याद मेंकृति चर्चा-'अप्प दीपो भव' प्रथम नवगीतिकाव्य चर्चाकार- आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*[कृति विवरण- अप्प दीपो भव, कुमार रवीन्द्र, नवगीतीय प्रबंध काव्य, आवरण बहुरंगी,सजिल्द जेकेट सहित, आकार २२ से.मी. x १४.५ से.मी., पृष्ठ ११२...
Yashoda Agrawal
5
यह नीर नहीचिर स्नेह निधिनिकले लेनप्रिय की सुधिसंचित उर सागरनिस्पंद भएसंग श्वास समीरनयनों में सजेयुग युग सेजोहें प्रिय पथ कोभए अधीरखोजन निकलेछलके छल-छलखनक-खन मोती बनगए घुल रज-कणएक पल में-दीपा जोशी
Yashoda Agrawal
5
पितामेरी धमनियों में दौड़ता रक्तऔर तुम्हारी रिक्ततामहसूस करती मैं,चेहरे की रंगत का तुमसा होनासुकून भर देता है मुझमेंमैं हूँ पर तुम-सीदिखती तो हूँ खैरहर खूबी तुम्हारी पा नहीं सकीपितासहनशीलता तुम्हारी,गलतियों के बावजूद मॉफ करने कीसाथ चलने कीसब जानते चुप रहने की म...
 पोस्ट लेवल : दीप्ति शर्मा
Ashok Kumar
157
कुलदीप कुमार एक इतिहास मर्मज्ञ पत्रकार के रूप में जाने जाते हैं और संगीत में उनकी गहरी रुचि से ख़ासतौर पर अंग्रेज़ी अख़बारों के पाठक बख़ूबी परिचित हैं. लेकिन यह कम ही लोग जानते हैं कि उन्होंने शुरुआत एक कवि के रूप में की थी और सत्तर के दशक में प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में...
 पोस्ट लेवल : कुलदीप कुमार