ब्लॉगसेतु

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
178
दीपावली के अगले दिन पारम्परिक रूप से थकान मिटाने और आराम करने का दिन होता है। हमारे यहाँ इस प्रतिपदा के दिन को ‘परुआ’ भी कहा जाता है। परुआ का एक अर्थ आलसी और कामचोर भी होता है। कृषि कार्यों के दौरान जो बैल हल खींचने या अन्यथा मेहनत से बचने के लिए अपने स्थान पर ही ब...
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
178
हिन्दी-सेवी मित्र जन, सबको शुभ-संदेश।ज्योतिर्मय दीपावली, हर ले सबके क्लेष॥हर ले सबके क्लेष, सदा मंगल हो घर में।लक्ष्मी-नारायण निवास हो नारी - नर में॥कर सिद्धार्थ कामना, टले विकट ये मंदी।विश्व-पटल पर धूम मचाये अपनी हिन्दी॥‍===========================================...
girish billore
93
..............................
 पोस्ट लेवल : कुंठा दीपावली
girish billore
713