ब्लॉगसेतु

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
184
  पिछले दिनों विश्वविद्यालय प्रांगण में आयोजित ब्लॉगिंग संगोष्ठी में दिल्ली से श्री जय कुमार झा जी पधारे थे। ‘ऑनेस्टी प्रोजेक्ट डेमोक्रेसी’  के अलावा उनके दूसरे भी ब्लॉग हैं। ब्लॉगरी को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने पर झा जी का बहुत जोर है। इतना कि उनसे चाहे...
अविनाश वाचस्पति
134
आज सुबह सवेरे मैं जब पास के पार्क मैं टहलने गया तो देखा कि दो कुत्ते आपस मैं बातें कर रहे थे. काला कुत्ता भूरे कुत्ते से कह रहा था," यार भूरे जब से ये सुना है कि खेल ख़त्म हो गए हैं मेरी तो जान मैं जान आ गयी है. " इस पर भूरा बोला," हाँ यार ठीक कह रहा है, दस बारह...
girish billore
98
..............................
 पोस्ट लेवल : दीपक 'मशाल'
संजीव तिवारी
75
कल किसी रामविचार कहे जाने वाले की अभद्रता और गंवारपन की खबर अखबार में पढ़ी तब से इसी विषय पर सोच रहा हूं। सोचता हूं कि दिन-रात पढ़ाई और मेहनत-मशक्कत करके क्या इसी दिन के लिए लोग प्रशासनिक सेवाओं में आते हैं कि उनके साथ कोई मारपीट करे और सरेआम उसका अपमान करे। इन क...
 पोस्ट लेवल : दीपक शर्मा
kumarendra singh sengar
700
पुस्तक समीक्षा --- *अनुभूतियाँ* द्वारा- श्रीमती निर्मला कपिला ===================== जब कि पुस्तक समीक्षा मेरी लेखन विधा नही है मगर जब दीपक चौरसिया 'मशाल' की पुस्तक *अनुभूतियाँ* पढी तो अपने मन में उपजी अनुभूतिओं को लिखे बिना रह नहीं पाई। इस पुस्तक की जिस बात ने मुझ...
संजीव तिवारी
75
जलते बस्तर के दंतेवाडा से लगातार आ रहे समाचारों - विचारों की कडी में संपादक सुनील कुमार जी का विशेष संपादकीय कल छत्तीसगढ में पढने को मिला. देश की स्थिति परिस्थिति के संबंध में मीडिया जनता तक सच को लाती है, दिखाती है या पढाती है. इस संपादकीय से यह स्पष्ट हुआ कि यह...
Krishna Kumar Yadav
484
भारतीय उत्सवों को लोकरस और लोकानंद का मेल कहा गया है। भूमण्डलीकरण एवं उपभोक्तावाद के बढ़ते दायरों के बीच इस रस और आनंद में डूबा भारतीय जन-मानस आज भी न तो बड़े-बड़े माॅल और क्लबों में मनने वाले फेस्ट से चहकार भरता है और न ही किसी कम्पनी के सेल आॅफर को लेकर आन्तरिक उल्...
 पोस्ट लेवल : दीपावली
महेश कुमार वर्मा
353
दीपावली की शुभकामनाएं अंतर में ज्ञान का दीप जलाकर सत्य के प्रकाश में ईमानदारिता के राह पर चलें।
वंदना अवस्थी दुबे
368
पिछले दिनों मेरी ननद नीतू, और उनके पतिदेव शिशिर अमेरिका से लौटे। गत चार वर्षो से वेहोनोलुलू में थे। तमाम किस्से वहाँ की संस्कृति, लोग और अन्य मसलों पर खूब-खूब चर्चाएँ हुईं। चर्चा के दौरान ही शिशिर ने बताया कि वहां लोगों का सामान जब पुराना हो जाता है तब वे उसे रोड...
महेश कुमार वर्मा
353
दुर्गा पूजा व दशहरा बीत गया। ईद भी बीत गया और अब आ गया बुराई पर अच्छाई के विजय व अंधकार से प्रकाश में जाने का प्रतिक पर्व दीपावली। दीपावली का पर्व हमें अंधकार से प्रकाश में जाने की प्रेरणा देता है। इस पर्व के अवसर पर कई दिन पहले से ही लोग अपने घरों की...
 पोस्ट लेवल : दिवाली विचार दीपावली